सोने से बना पलंग और 1300 से हीरे-जवाहरात वाला हार किसने किया दान, जालंधर से पटना आया ये शख्‍स

Advertisement

श्रद्धा को कोई मोल नहीं होता है। ऐसा पटना साहिब स्‍थि‍त तख्‍त श्रीहरिमंदिर साहिब में हमेशा दिखता है। सिखों के बड़े तीर्थस्‍थल तख्‍त श्री हरि मंदिर जी पटना साहिब में दशमेश गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह के 355वें प्रकाशपर्व की तैयारी चल रही है। इस बीच पंजाब के करतारपुर (जालंधर) निवासी डा. गुरविंदर सिंह सामरा ने 1300 हीरे और जवाहरात वाला पांच फीट लंबे सोने का हार दान कर अपनी श्रद्धा का परिचय दिया है। उन्‍होंने साेने की बनी कई चीजें दान की हैं। जालंधर में एक अस्‍पताल चलाने वाले सामरा ने इससे पहले करोड़ों रुपए की कीमत वाला सोने का बना पलंग तख्‍त साहिब को दान किया था।

Advertisement

दशमेश गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के प्रकाश पर्व के लिए पटना साहिब एक बार फिर से तैयार हो गया है। 355वें प्रकाशपर्व को लेकर तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब से शुक्रवार की सुबह पंज प्यारों की अगुवाई में निकली प्रभातफेरी अशोक राजपथ के रास्ते बाजार समिति क्षेत्र स्थित गुरु का बाग गुरुद्वारा पहुंची। देश-विदेश से पटना साहिब आए सिख श्रद्धालु इसमें शामिल हुए। साथ में चल रहे कीर्तनी जत्था ने भजन-कीर्तन किया। रास्ते में सभी वाहे गुरु का खालसा वाहे गुरु की फतेह का धार्मिक नारा श्रद्धालु बुलंद कर रहे थे।

प्रभातफेरी में शामिल श्रद्धालुओं में 355वें प्रकाशर्व में शामिल होने का उत्साह दिखा। उन्होंने कहा कि दशमेश गुरु के जन्म स्थल आकर और प्रभातफेरी में शामिल होकर उनका जीवन धन्य हो गया। गुरुद्वारा के अधीक्षक दलजीत ङ्क्षसह ने बताया कि प्रकाश पर्व को लेकर सात जनवरी तक इसी तरह हर दिन सुबह में प्रभातफेरी निकाली जाएगी। शनिवार को प्रभातफेरी श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब से निकल कर हाजीगंज, अरोड़ा हाउस, छोटी पटनदेवी, काली स्थान, बाड़े की गली पहुंच कर वहां से तख्त साहिब लौटेगी।

Advertisement
Advertisement