समस्तीपुर जिले में 75 प्रतिशत लोगों का हुआ टीकाकरण,सेकेंड डोज में 79 प्रतिशत टीकाकरण:

Advertisement

कोरोना टीकाकरण में समस्तीपुर जिले में अब तक 75 प्रतिशत लोगों को पहला डोज का टीका लगाया जा चुका है। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार जिले में 20 दिसंबर तक 22 लाख 49 हजार 540 लोगों को पहला डोज का टीका दिया गया है। जबकि वर्ष 2021-22 के अनुमानित जनसंख्या के अनुसार 29 लाख 86 हजार लोगों को पहला डोज का टीका देने का लक्ष्य है। इस लक्ष्य में 18 प्लस आयु वर्ग के लोगों को ही शामिल किया गया है। पहला डोज देने के लिए जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के द्वारा हर स्तर पर कैंप लगाकर टीकाकरण किया गया। इसके बावजूद जिले का सबसे बड़ा ब्लॉक विभूतिपुर सबसे पीछे हैं। जबकि विभूतिपुर में स्पेशल टीम की प्रतिनियुक्ति कर टीकाकरण अभियान चलाया गया। इसके बावजूद अब तक मात्र 57 प्रतिशत लोगों को ही पहला डोज का टीका दिया गया है। जबकि दो लाख 37 हजार लोगों को पहला डोज का टीका देने का लक्ष्य है। इसमें मात्र एक लाख 35 हजार लोगों को पहला डोज का टीका दिया गया है। जिले में 70 प्रतिशत से नीचे के टीकाकरण में खानपुर, शिवाजीनगर, मोहनपुर, हसनपुर, कल्याणपुर एवं वारिसनगर भी शामिल है।

समस्तीपुर नगर निगम है फर्स्ट डोज में आगे:

Advertisement

कोरोना का पहला टीका लगाने में समस्तीपुर नगर निगम सबसे आगे हैं। यहां समस्तीपुर पीएचसी के कर्मी के द्वारा टीकाकरण किया जा रहा है। अब तक 142 प्रतिशत लोगों को पहला डोज का टीका दिया गया है। वहीं दलसिंहसराय व पूसा में 92 प्रतिशत टीकाकरण किया गया है। जबकि रोसड़ा में 86, पटोरी में 79, ताजपुर में 78 एवं समस्तीपुर प्रखंड में 77 प्रतिशत टीकाकरण किया गया है।

सेकेंड डोज में 79 प्रतिशत टीकाकरण:

Advertisement

संपूर्ण टीकाकरण अभियान के तहत समस्तीपुर में 79.5 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण किया गया है। यूं कहें तो जिले में अब तक साढ़े 79 प्रतिशत लोगों को टीका का दोनों डोज दिया जा चुका है। दोनों डोज का टीका देने मेंकल्याणपुर प्रखंड सबसे आगे आकर लगभग 94 प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त कर लिया है। वहीं समस्तीपुर नगर निगम सबसे पीछे है, जहां लगभग 62 प्रतिशत लोगों को ही सेकेंड डोज का टीका दिया गया है। विदित हो कि समस्तीपुर नगर निगम में पहला डोज के समय ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की काफी भीड़ हुई थी, वहीं सेकेंड डोज सभीअपने-अपने प्रखंड में ही ले रहे हैं। जिसके कारण इनकी स्थिति पीछे हो गयी है।

Advertisement

Advertisement