कमाल है! तैयार हो गया बिहार का पहला फ्लोटिंग सोलर पॉवर प्लांट, नीचे रहेगी मछली, ऊपर बिजली

Advertisement

दरभंगा. बिहार का पहला तैरता हुआ सोलर बिजली प्लांट तैयार हो चुका है. जिले के कादिराबाद मोहल्ले में राज्य का यह पहला तैरता पावर प्लांट एक तालाब के पानी मे लगाया गया है. यहां नीचे मछली का उत्पादन किया जाएगा और तालाब के ऊपर सोलर प्लेट लगा कर सौर ऊर्जा से बिजली का भी उत्पादन भी किया जाएगा. यानी नीचे मछली तो ऊपर बिजली.

तालाब के पानी के ऊपर सोलर प्लेट लगाने का काम लगभग पूरा हो गया है. अब इसे अंतिम रूप दिया जा रहा है. वहीं, इस सोलर प्लांट से उत्त्पन्न होने वाले बिजली को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए एक विद्युत उप केंद्र भी बनाये जा रहे हैं. इस सोलर प्लांट से 1.6 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाएगा. प्रयोग सफल होने पर इसे और तालाबो में विस्तार भी किया जाएगा.

Advertisement

सौर ऊर्जा से चलनेवाली यह तैरता बिजली प्लांट लगानेवाले कंपनी के प्रॉजेक्ट मैनेजर रोहित सिंह ने बताया कि यह बिहार का पहला फ्लोटिंग सौर ऊर्जा से चलने वाला पावर प्लांट है. इसका काम लगभग पूरा हो चुका है. सरकार के साथ मिलकर इस काम को पूरा किया जा रहा है.

रोहित सिंह न बताया कि इस पावर प्लांट से 1.6 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा. लगभग पूरी तैयारी कर ली गई है. जैसे ही सरकार का विद्युत उप केंद्र बनकर तैयार हो जाएगा इसे चार्ज कर बिजली उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा.

Advertisement

रोहित सिंह ने बताया कि इस पावर प्लांट की खास बात यह है कि इसमें किसी प्रकार का कोई प्रदूषण भी नहीं होगा और न ही तालाब की बनावट के अलावा मछली पालन करने में कोई छेड़छाड़ किया जाएगा.

दरभंगा शहर के नगर विधायक संजय सरावगी ने बताया कि बिहार सरकार के PPP मोड पर यह फ्लोटिंग पावर प्लांट तालाब में लगाया गया है. यह एक सफल प्रयोग होने वाला है. इसमें सफलता मिली तो अन्य तालाबों में भी ऐसे सोलर प्लांट लगाए जाएंगे.

Advertisement

दरभंगा के डीएम त्याग राजन ने कहा लोगों को जल्द ही इसका लाभ मिलेगा. दरभंगा में अनेकों तालाब है ऐसे में गैर परंपरागत बिजली उत्पादन होने से न सिर्फ बिजली उत्पादन की क्षमता बढ़ेगी बल्कि ज्यादा बिजली उत्पादन होने से इसके कीमतों में भी गिरावट होगी.

(फोटो व रिपोर्ट- विपिन कुमार दास)

Advertisement
Advertisement