डॉक्टर, इंजीनियर, स्टूडेंट… सब मुखिया, बिहार में नौजवानों के हाथ में गांव की सरकार

Advertisement

राजनीति की ये खामी रही है कि कोई भी शख्स इसे अपना सकता है। इसके लिए योग्यता कोई मायने नहीं रखता। जबकि जीतने वाले का काम ही कायदे-कानून को जानना और बनाना होता है। मगर बिहार पंचायत चुनाव के रिजल्ट उम्मीदों को जगा रहे हैं।

राजनीति को लेकर अक्सर आम लोगों की ये शिकायत रहती है कि इस पेशे में पढ़े-लिखे लोगों की तादाद न के बराबर है। खासकर पंचायत चुनाव को लेकर। मगर बिहार में काफी कम उम्र के शिक्षित लड़कियां जीत का पताका लहरा रहीं हैं। जिनके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

Advertisement

भागलपुर में 21 साल की आयशा बनीं मुखिया

भागलपुर की सबसे कम उम्र की महिला मुखिया के तौर पर आयशा खातून ने जीत दर्ज कीं। ये फतेहपुर पंचायत से उम्मीदवार थीं। आयशा ने मीडिया को बताया कि वो सबौर कॉलेज के बीए पार्ट थ्री (राजनीति शास्त्र) की छात्रा हैं। 22 जुलाई 2017 को उनका विवाह मो ताज हुसैन से हुआ, जो एक इंजीनियर हैं। जीत के बाद आयशा ने कहा कि अब खुलकर क्षेत्र का विकास करेंगी। इसमें सड़क से लेकर शिक्षा तक शामिल होगा।

Advertisement

शिवहर में 21 साल की मुखिया बनीं अनुष्का

शिवहर जिले में 21 साल की अनुष्का गांव की सरकार चला रही हैं। बिहार पंचायत चुनाव में उन्होंने कुशहर पंचायत से जीत दर्ज कीं हैं। अनुष्का कुमारी ने बेंगलुरू से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कीं और पंचायत चुनाव में हाथ आजमाया। उन्होंने कहा कि वो अपनी पंचायत की किस्मत बदलने के लिए काम करेंगी।

Advertisement

छपरा में छात्रा चलाएगी गांव की सरकार

छपरा में बनियापुर प्रखंड के रामधनाव पंचायत के लोगों ने एक युवती पर भरोसा दिखाया। महज 22 वर्ष की उम्र में अंजनी कुमारी ने मुखिया पद पर जीत दर्ज की। बीए पार्ट थ्री की छात्रा हैं और जो वेस्टेज कंपनी में नेटवर्क मार्केटिंग का काम करती हैं। अंजनी के चाचा प्रभुनाथ मांझी ने कहा कि लोग अब जाति-समाज के भेदभाव से ऊपर उठकर पंचायत के विकास के लिए शिक्षित और स्वच्छ छवि के उम्मीदवार को अपने जनप्रतिनिधि के रूप में पसंद कर रहे हैं।

Advertisement

कटिहार में 12वीं की छात्रा बनी वार्ड पार्षद

कटिहार पंचायत चुनाव में 21 साल की खुशबू वार्ड सदस्य चुनी गईं। आजमनगर प्रखंड के मर्वतपुर पंचायत के वार्ड संख्या एक से खुशबू कुमारी पहली बार चुनाव जीती हैं। उनके मुकाबले में कई प्रत्याशी मैदान में थे। लेकिन जनता ने गांव की लाडली को प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया है। खुशबू कुमारी 12वीं की छात्रा हैं।

Advertisement

जमुई में डॉक्टर जीत गया मुखिया का चुनाव

जमुई के लोगों ने भी कमाल कर दिया। योग्यता को तवज्जो देने के मामले में निराशा के बीच आशा की किरण खैरा प्रखंड की बानपुर पंचायत से दिखाई दी। यहां मेडिसीन में एमडी तक की यूक्रेन (विदेश) में पढ़ाई करनेवाले डॉक्टर इबरार को विकास और सुधार की जिम्मेदारी दे दी। डॉ इबरार कोलकाता में रहकर एक बड़े अस्पतालों में अपनी सेवा दे रहे थे। इस बीच काफी लंबे अरसे बाद लॉकडाउन में गांव आए तो फिर इनकी समस्याओं के खुद को दूर नहीं रख सके।

Advertisement

Source- NBT Link

Advertisement

Advertisement