बिहार: सबसे ज्यादा रेवेन्यू देने वाला स्टेशन बना पटना जंक्शन, समस्तीपुर की रैंकिंग सुधरी, यहां पढ़ें टॉप 30 नाम

Advertisement

पूर्व मध्य रेल के अधिक राजस्व वाले टॉप 30 स्टेशनों की सूची में सहरसा फिर से 13वें स्थान पर काबिज है। टॉप यानी पहले स्थान पर फिर से पटना जंक्शन काबिज है। दूसरे स्थान पर फिर से दानापुर, तीसरे पर मुजफ्फरपुर, चौथे पर दीनदयाल उपाध्याय (मुगलसराय) और पांचवें पर दरभंगा जंक्शन है।

पिछली सूची में 12 वें स्थान पर रहने वाला गया स्टेशन इस बार छह नंबर छलांग लगाते छठे स्थान पर पहुंच गया है। समस्तीपुर जंक्शन की रैंकिंग में इस बार सुधार हुआ है। नौ से घटकर सातवें स्थान पर पहुंच गया है। वहीं धनबाद एक नंबर आगे आठवें स्थान पर पहुंच गया है। पटना जिले का राजेंद्रनगर टर्मिनल एक पायदान नीचे लुढ़क नौवें स्थान पर पहुंच गया है।

Advertisement

पटना का ही सातवें स्थान पर रहने वाला पाटलिपुत्र स्टेशन इस बार 14 वें स्थान पर है। ग्यारह पर रहने वाला बक्सर इस बार दसवें और आरा ग्यारहवें स्थान पर है। सहरसा से नीचे रहने वाला बरौनी एक पायदान आगे 12 वें नंबर पर पहुंच गया है। टॉप 30 के सबसे निचले पायदान पर अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन का नाम है।

बता दें कि आरक्षित और अनारक्षित टिकट बिक्री से एक अप्रैल से 30 सितंबर 2021 तक पांच माह में मिले राजस्व को आधार बनाते टॉप 30 स्टेशनों की सूची रेलवे ने जारी की है। राजेश कुमार सिंह नामक व्यक्ति के द्वारा मांगे गए आरटीआई के जवाब में पूर्व मध्य रेल मुख्यालय के डिप्टी सीसीएम यात्री सुविधा ने अधिक राजस्व वाले टॉप 30 स्टेशनों की सूची उपलब्ध कराई है।

Advertisement

सहरसा से नीचे हाजीपुर, कियूल, मोतिहारी व खगड़िया स्टेशन
तेरहवें नंबर पर काबिज सहरसा स्टेशन से नीचे पाटलिपुत्र, हाजीपुर, कोडरमा, डेहरी ऑन सोन, कियूल, बापूधाम मोतिहारी और सासाराम स्टेशन हैं। बीसवें स्थान वाले सासाराम से नीचे मधुबनी, खगड़िया, सोनपुर, बेतिया, जयनगर, बेगूसराय, रक्सौल, बगहा और सकरी स्टेशन हैं।

चार नंबर ऊपर पहुंचा बेगूसराय स्टेशन
एक अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 तक साल भर के लिए जारी पूर्व मध्य रेल के टॉप 30 स्टेशनों की सूची में बेगूसराय सबसे नीचे था। इस बार एक अप्रैल से 30 सितंबर 2021 तक जारी हुई पूर्व मध्य रेल के टॉप स्टेशनों की सूची में बेगूसराय ने चार पायदान छलांग लगाते 26 वें स्थान पर जगह बनाई है।

Advertisement

ट्रेन बढ़ी तो पांच माह में ही 25 करोड़ से अधिक राजस्व


ट्रेनों की संख्या बढ़ी और पिक सीजन होने के कारण सहरसा स्टेशन का टिकट बिक्री से रेल राजस्व पांच माह में
ही 25 करोड़ 18 लाख 27 हजार 445 रुपए पर पहुंच गया। आरक्षित टिकटों की बिक्री से 24 करोड़ 29 लाख 79 हजार 690 रुपए और अनारक्षित टिकटों से 88 लाख 47 हजार 755 रुपए मिले।

वहीं कोरोना काल में ट्रेन परिचालन बंद रहने और फिर नाममात्र के कुछ ट्रेन के चलने के वाबजूद एक अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2022 तक साल भर में सहरसा जंक्शन से 28 करोड़ 88 लाख 73 हजार 658 रुपए राजस्व टिकट बिक्री से हासिल हुए थे।

Advertisement

जनसेवा, जनसाधारण जैसी ट्रेनें चलती तो राजस्व में और होता इजाफा


अगर अमृतसर को चलने वाली जनसेवा, जनसाधारण जैसी ट्रेनें चलती तो सहरसा से मिले राजस्व में और भी इजाफा होता। पूर्णिया और समस्तीपुर रूट की बंद पैसेंजर ट्रेनें चलती तो और रेवेन्यू मिलते। वहीं पुरबिया पहले की तरह दो दिन चलती तो इससे भी राजस्व बढ़ता।

समस्तीपुर मंडल के टॉप थ्री राजस्व स्टेशनों में सहरसा शामिल


समस्तीपुर मंडल के टॉप थ्री अधिक राजस्व देने वाले स्टेशनों में सहरसा तीसरे नंबर पर है। पहले स्थान पर दरभंगा और दूसरे नंबर पर समस्तीपुर जंक्शन है। चौथे स्थान पर बापूधाम मोतिहारी, फिर मधुबनी, बेतिया, जयनगर, रक्सौल, बगहा, सकरी स्टेशन है।

Advertisement

स्टेशनों को मिले राजस्व पर एक नजर
सबसे अधिक राजस्व हासिल करने की सूची में टॉप पर जंक्शन पटना का एक अप्रैल से 30 सितंबर 2021 तक प्राप्त राजस्व 202 करोड़ 45 लाख 52 हजार 962 रुपए रहा। टॉप 30 में सबसे नीचे स्थान वाले अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन से सात करोड़ 24 लाख 4 हजार 237 रुपए राजस्व मिले। दानापुर जंक्शन से 108 करोड़ 75 लाख 65 हजार 200, मुजफ्फरपुर से 84 करोड़ 99 लाख 78 हजार 368, दीनदयाल उपाध्याय से 68 करोड़ 26 लाख 19 हजार 40 और दरभंगा से 57 करोड़ 78 लाख 4 हजार 782 रुपए राजस्व मिले।

गया से 56 करोड़ 22 लाख 48 हजार 738, समस्तीपुर से 45 करोड़ 39 लाख 78 हजार 948, धनबाद से 44 करोड़ 89 लाख 95 हजार 390, राजेंद्रनगर टर्मिनल से 43 करोड़ 45 लाख 78 हजार 112, बक्सर से 33 करोड़ 23 लाख 91 हजार 968, आरा से 28 करोड़ 89 लाख 60 हजार 441, बरौनी से 26 करोड़ 85 लाख एक हजार 155, पाटलिपुत्र से 23 करोड़ 41 लाख 90 हजार 744, हाजीपुर से 20 करोड़ 47 लाख 67 हजार 656, कोडरमा से 14 करोड़ 50 लाख 703, डेहरी ऑन सोन से 13 करोड़ 97 लाख 27 हजार 507, कियूल से 13 करोड़ 68 लाख 15 हजार 142, बापूधाम मोतिहारी से 12 करोड़ 45 लाख 93 हजार 768, सासाराम से 11 करोड़ 1 लाख 29 हजार 320, मधुबनी से 10 करोड़ 68 लाख 21 हजार 444 रुपए राजस्व मिले।

Advertisement

खगड़िया से 10 करोड़ 48 लाख 17 हजार 414, सोनपुर से 9 करोड़ 83 लाख 92 हजार 473, बेतिया से 9 करोड़ 72 लाख 10 हजार 894, जयनगर से 8 करोड़ 73 लाख दो हजार 659, बेगूसराय से 8 करोड़ 9 लाख 99 हजार 517, रक्सौल से 7 करोड़ 77 लाख 95 हजार 576, बगहा से 7 करोड़ 65 लाख 97 हजार 69 और सकरी से 7 करोड़ 39 लाख 66 हजार 268 रुपए राजस्व प्राप्त हुए।

कौन से स्टेशन कितने नंबर पर

Advertisement
  1. पटना
  2. 2. दानापुर
  3. 3. मुजफ्फरपुर
  4. 4. दीनदयाल उपाध्याय
  5. 5. दरभंगा
  6. 6. गया
  7. 7. समस्तीपुर
  8. 8. धनबाद
  9. 9. राजेंद्रनगर टर्मिनल
    1. बक्सर
    1. आरा
    1. बरौनी
    1. सहरसा
    1. पाटलिपुत्र
    1. हाजीपुर
    1. कोडरमा
    1. डेहरी ऑन सोन
    1. कियूल
    1. बापूधाम मोतिहारी
    1. सासाराम
    1. मधुबनी
    1. खगड़िया
    1. सोनपुर
    1. बेतिया
    1. जयनगर
    1. बेगूसराय
    1. रक्सौल
    1. बगहा
    1. सकरी
    1. अनुग्रह नारायण रोड
Advertisement