दिल्ली में अयोध्या जैसा ‘राम मंदिर’, दिवाली पर बड़े स्तर पर लाइव टेलीकास्ट की तैयारियां

Advertisement

दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार के दिवाली उत्सव में इस साल अयोध्या के ‘राम मंदिर’ की खूबसूरत झलक देखने को मिलेगी. केजरीवाल सरकार ने साल 2020 में अक्षरधाम मंदिर में दिवाली पूजा का आयोजन किया था. इस साल भी यानी 4 नवंबर को शाम 7 बजे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के तमाम मंत्री सपरिवार लक्ष्मी पूजा में शामिल होंगे.

दरअसल, ‘दिल्ली की दिवाली’ उत्सव को ‘राम मंदिर’ में मनाया जाएगा. देश की राजधानी के त्यागराज स्टेडियम में अयोध्या में बनाए जा रहे ‘राम मंदिर’ की एक कॉपी बनाई जा रही है.

Advertisement

यहां मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और मंत्रियों द्वारा आयोजित पूजा को सोशल मीडिया में बड़े स्तर पर लाइव टेलीकास्ट करने की तैयारी भी चल रही है. अयोध्या राम जन्मभूमि पर तैयार होने जा रहे राम मंदिर के प्रारूप का दर्शन त्यागराज स्टेडियम में हो पाएगा. ‘राम मंदिर’ का प्रारूप लगभग 30 फुट ऊंचा और 80 फुट चौड़ा होगा.

अयोध्या में सरयू नदी के घाट पर आरती में शामिल हुए थे केजरीवाल

Advertisement

हाल ही में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अयोध्या में सरयू नदी के घाट पर आरती में शामिल हुए थे. साथ ही हनुमान गढ़ी और राम जन्मभूमि जाकर रामलला के दर्शन भी किए थे. रामजन्मभूमि दर्शन के ठीक बाद अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सरकार की मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना में अयोध्या को शामिल करने का ऐलान किया और अगले दिन दिल्ली पहुंचते ही इस फैसले पर दिल्ली कैबिनेट की मुहर भी लग गई. और अब दिल्ली सरकार के दिवाली कार्यक्रम में भी भगवान राम और राम मंदिर की झलक दिखेगी.

23 अक्टूबर को केजरीवाल ने कही थी ये बात

Advertisement

23 अक्टूबर को दिल्ली विधानसभा परिसर में एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि ”दिवाली के दिन शाम सात बजे कैबिनेट मंत्रियों के साथ दिवाली का पूजन करूंगा. उसका लाइव टेलिकास्ट होगा. मेरा सभी दिल्लीवासियों से निवेदन है कि हमारे साथ-साथ आप भी अपने घरों के अंदर पूजन करना. दिल्ली के दो करोड़ लोग एक साथ मिल कर जब पूजन कर रहे होंगे, तब पूरे दिल्ली के अंदर कंपन कैसी होगी, आप इसकी कल्पना करके देखिए.”

आपको बता दें कि साल 2019 में दिल्ली सेंट्रल पार्क में दिल्ली की दिवाली कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी. प्रदूषण से निपटने के लिए शुरू किए गए इस कार्यक्रम का मकसद पटाखा न जलाकर, लाइटिंग साउंड के साथ दिवाली मनाना है.

Advertisement

Input- Aaj Tak

Advertisement

Advertisement