सरकारी अनुदान के लिये पत्नी के रहते साली से रचा ली शादी, सच्चाई सामने आई तो

Advertisement

यूपी के महाराजगंज जिले में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है, 13 सितंबर को जिला मुख्यालय के महालक्ष्मी लॉन में केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी की मौजूदगी में शादी के बंधन में बंधने वाले 233 जोड़ों में कुछ ऐसे हैं, जो पहले से ही शादीशुदा हैं, इनमें से कई के तो बच्चे भी हैं, ये सब सरकारी अनुदान के लिये किया गया।

मामले की जांच

Advertisement

कई जोड़े अपने शादीशुदा रिश्ते को छिपाकर तथा अफसरों की मिलीभगत से शादी स्थल पर आकर बैठ गये, उन्होने प्रशासन से नेग भी ले लिया, marraige4लेकिन अब मामला संज्ञान में आने के बाद अधिकारी और सामूहिक विवाह योजना के पात्रता की जांच पड़ताल करने वाले कर्मियों के होश उड़ गये हैं।

क्या है मामला

Advertisement

13 सितंबर को शासन के निर्देश पर मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का आयोजन जिला मुख्यालय के महालक्ष्मी लॉन में किया गया था, लॉन को भव्य तरीके से सजाया गया था, शादी में 233 जोड़ों का पंजीकरण तथा सत्यापन के बाद उनके धर्म और रीति-रिवाज से सामूहिक शादी कराई गई थी। (2)वर-वधू को आशीर्वाद देने के लिये कार्यक्रम स्थल पर केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी, डीएम उज्जवल कुमार, सीडीपीओ गौरव सिंह सोगरवाल समेत कई जनप्रतिनिधि आये थे, शादी के बाद शासनादेश के तहत वर-वधू को निर्धारित अनुदान और उपहार शासन की ओर से भेंट किया गया।

सच्चाई सामने आने से मचा हड़कंप

Advertisement

इस बीच सामूहिक विवाह में शामिल एक जोड़े की फर्जी शादी की सच्चाई पता चल गई, बताया गया है कि कोल्हुई थाना क्षेत्र के बड़िहारी निवासी अमरनाथ चौधरी पुत्र रामनाथ चौधरी ने अपनी शादीशुदा साली से सरकारी अनुदान के लिये शादी रचा ली,वो खुद शादीशुदा हैं, उसके बच्चे भी हैं। खास बात ये है कि सरकारी अनुदान के लिये इस फर्जी शादी में दूल्हे की पत्नी भी मौजूद थी, सरकारी अनुदान के लालच में उसने अपनी बहन से ही अपने पति की सामूहिक विवाह योजना में शादी करा दी। हालांकि मामला उजागर होने के बाद अब हड़कंप मच गया, जिम्मेदार अधिकारी इस मामले में बोलने से कतरा रहे हैं।

Advertisement

Advertisement