लिट्टी चोखा से लेकर रशियन सलाद तक, जानिए राष्ट्रपति की थाली में क्या है

Advertisement

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बुधवार को पटना पहुंच गये. उनकी रात्रि विश्राम की व्यवस्था राजभवन में है. गुरुवार को वह विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में शिरकत कर रहे हैं. राष्ट्रपति के स्वागत और आवभगत में कई तरह के व्यंजन बनाए गए हैं.

इन व्यंजनों के बनाने में सादगी का पूरा ध्यान रखा गया है. राष्ट्रपति सादगी से रहते हैं, शाकाहारी हैं और खाने में भी सादगी पसंद हैं. इसलिए इसी के आधार पर व्यंजनों की व्यवस्था की गई है. उनके खाने में अलग-अलग तरह की देशी शाकाहारी व्यंजनों की व्यवस्था की गयी है.

Advertisement

ऐसी है व्यवस्था

विधानसभा अध्यक्ष के सरकारी आवास में बुधवार की रात राष्ट्रपति के सम्मान में आयोजित भोज में भी शाकाहारी व्यंजनों को ही शामिल किया गया था. इसी तरह गुरुवार के भोजन के लिए तीन कोर्स में सबसे पहले मेहमानों के लिए वेलकम ड्रिंक की व्यवस्था है, जिसमें वर्जिन मोजिटो, छाछ, अनानास की रसम, तरबूज की जूस, नारियल पानी और डाइट कोक रहेंगे.

Advertisement

लिट्टी-चोखा का लेंगे स्वाद

इसके बाद राष्ट्रपति के लिए सिलाव का सेंका हुआ खाजा भी मौजूद रहेगा. थाली में रशियन सलाद, छिगनी जीरा फ्राइ, भिंडी का भुजिया, कॉर्न-ब्रोकली सूप सजी होगी. बिहार की संस्कृति लिट्टी-चोखा, कढ़ी-बड़ी, बचका से लेकर राजस्थानी व्यंजनों में गट्टे (बेसन) की सब्जी, बाजरे की रोटी, संगरे की साग भी बनाई जा रही है.

Advertisement

दक्षिण भारत के व्यंजन भी शामिल

दोपहर के खाने में जीरा-प्याज राइस, प्लेन राइस, अरहर दाल फ्राइ, मिस्सी रोटी, मल्टी ग्रेन फुल्का, लच्छेदार पुदीना पराठा, हिंग कचौड़ी बनाई जाएगी. इसके अलावा लच्छा रबड़ी (सुगर-फ्री), खजूर के गुड़ में बनी जलेबी, लीची की पाई (सुगर-फ्री), सेब की चटनी समेत अन्य कई लजीज पकवानों की व्यवस्था की गयी है. कुछ दक्षिण भारतीय व्यंजनों की भी विशेष व्यवस्था की गयी है, जिसमें चना दाल वाडा, कांजिवरम इडली, कॉर्न चीज समोसा समेत अन्य व्यंजन शामिल हैं.

Advertisement
Advertisement