17 लाख की लागत से बने नाले के ऊपर से बह रहा पानी

समस्तीपुर। पटोरी के पुरानी बाजार-गोरगामा घाट पथ पर नाली निर्माण में गड़बड़ी की शिकायत उपविकास आयुक्त से की गई है। गुरुवार को इस नाले की जांच के लिए विधायक रणविजय साहू पहुंचे। 17 लाख की राशि से बने नाले के कारण पूरे क्षेत्र में जल जमाव की स्थिति गंभीर बनने के बाद लोगों ने शिकायत की थी। विधायक ने बताया कि नाला निर्माण में घोर अनियमितता बरती गई है। नाले की गहराई लगभग सड़क के लेवल में है, जबकि ऊंचाई लगभग एक फीट है। गहराई कम होने के कारण नाले से एक बूंद जल भी बाहर नहीं निकल पाता और क्षेत्र के लोगों में जलजमाव के कारण स्थिति काफी अधिक कष्ट पूर्ण बन गई है। उन्होंने जांच के क्रम में ही उपविकास आयुक्त से बात की और इसकी शिकायत की। उपविकास आयुक्त ने विधायक को आश्वासन दिया है कि उक्त नाले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाएगी।

ज्ञात हो कि यह नाला पिछले वर्ष सात निश्चय योजना के तहत बनाया गया था। क्षेत्र के जलनिकासी के लिए बनाए गए इस नाले के कारण जलजमाव की स्थिति इतनी भयावह हो गई कि लोगों के घरों में पानी घुसने लगा और लोग पानी के कारण अपने घर से निकलना तक बंद कर चुके थे। इस जलजमाव के कारण बरसात में मस्जिद के अंदर पानी चला जाता है और मच्छरों के प्रकोप के कारण लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। कई तरह की बीमारियां भी पनपने लगी हैं। जांच के क्रम में विशेश्वर ठाकुर, राजद के प्रखंड अध्यक्ष सुरेश राय, मुमताज अहमद बबलू, प्रो. अयूब अंसारी, जितेंद्र कुमार राय सहित काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। ज्ञात हो कि नाला के कारण उत्पन्न समस्या की शिकायत आम लोगों ने उच्च अधिकारियों से कई बार की थी। जब यह शिकायत विधायक को मिली तो उन्होंने इसकी जांच की और उच्च अधिकारियों से अविलंब इसकी जांच कर लोगों की इस विकट समस्या के निदान के लिए पहल करने की बात कही।