लावारिस बच्ची के लिए मसीहा बना युवक:महिला ने एक साल की बच्ची को खेत में फेंका…

Advertisement

मुजफ्फरपुर के फकुली ओपी क्षेत्र के रजला गांव में एक साल की बच्ची को हल्दी के खेत मे फेंककर महिला भाग गई। बच्ची खेत में जोर-जोर से रो रही थी। आवाज सुनकर खेत में कई कुत्ते पहुंच गए। बच्ची के समीप जाकर कुत्ते भौंकने लगे। बच्ची को वो अपना निवाला बनाने वाले थे, तभी गांव के मनोज की नजर पड़ गई। वह मछली पकड़ने जा रहा था। उसने कुत्ते के भौंकने और बच्ची के रोने की आवाज सुनी। उसने पहले कुत्तों को भगाया। फिर पास जाकर देखा तो पाया कि एक कपड़े में लिपटी हुई मासूम बच्ची पड़ी हुई थी। उसने झट से बच्ची को गोद मे उठाया और गांव की तरफ भागा।

दूध पिलाने के बाद ले गए डॉक्टर के पास

Advertisement

मनोज उस बच्ची को अपने घर ले गया। वहां पर उसे गाय का दूध पिलाया। तब जाकर बच्ची चुप हुई। स्थानीय महिलाओं की भीड़ भी जुट गई। फिर बच्ची को डॉक्टर के पास ले गए। जांच के बाद उसे बिल्कुल स्वस्थ बताया गया। इसके बाद वे लोग बच्ची को लेकर घर आ गए।

ऑटो से आई थी महिला

Advertisement

स्थानीय लोगों ने बताया कि ऑटो से एक महिला आई थी। रजला में वह ऑटो से उतर गई। खेत मे जाकर बच्ची को फेंककर वह भाग निकली। उस समय गांव वालों को सन्देह नहीं हुआ। जब मनोज उसे लेकर घर गया तब मामला सामने आया। लोगों को आशंका है कि महिला को पहले से बेटी होगी। परिवार वाले उसपर ताना मारते होंगे या वह महिला काफी गरीब होगी। इस बच्ची का भरण-पोषण नहीं कर पाती। इसलिए उसे फेंक दिया।

पुलिस को नहीं है जानकारी

Advertisement

फकुली ओपी प्रभारी उदय कुमार सिंह ने बताया कि अबतक उन्हें इस तरह की कोई सूचना नहीं मिली है। वे अपने स्तर से पता करते हैं कि क्या बात है। अगर कोई उस बच्ची को रखना चाहता है तो इसके लिए कानूनी प्रक्रिया है, जिसे पूरा कर बच्ची को रख सकता है।

Advertisement

Advertisement