बिहार की अनुष्का प्रियदर्शिनी ने पूरे देश में किया टॉप,800 नंबर में से 765 अंक प्राप्त

Advertisement

जमुई की अनुष्का प्रियदर्शिनी ने परिवार के साथ ही पूरे बिहार का सिर फक्र से ऊंचा कर दिया है. देश की प्रतिष्ठित होटल मैनेजमेंट परीक्षा के लिए देश की नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) परीक्षा आयोजित करती है. राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा एनसीएचएमसीटी जेईई द्वारा ली गई परीक्षा में जमुई की बेटी अनुष्का प्रियदर्शनी को ऑल इंडिया में पहला स्थान मिला है.

इसी सप्ताह जारी रिजल्ट में अनुष्का को 800 नंबर में से 765 अंक प्राप्त हुए हैं. मूल रूप से मैथ, रिजनिंग, इंग्लिश, जीके और एप्टिट्यूड टेस्ट वाली इस परीक्षा में चयनित छात्र छात्राओं में से अव्वल आने वाले को देश की प्रसिद्ध 19 सेंट्रल गवर्नमेंट की इंडियन होटल मैनेजमेंट कॉलेज में बैचलर ऑफ साइंस इन हॉस्पिटैलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन कोर्स में दाखिला मिलता है.

Advertisement

जमुई के इनकम टैक्स अधिवक्ता रविंद्र किशोर सहाय और शिक्षिका शाश्वती सहाय की छोटी पुत्री अनुष्का प्रियदर्शिनी ने जमुई में ही अपनी पूरी स्कूलिंग की है और इसी साल रांची के लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल से आईसीएससी बोर्ड द्वारा आयोजित 12वीं की परीक्षा में 92% अंकों के साथ सफलता पाई है.जमुई के कृष्णपट्टी मोहल्ले में रहने वाले रविंद्र किशोर सहाय और शाश्वती सहाय एक मध्यमवर्गीय साधारण परिवार से आते हैं.

जहां बच्चों को साधारण शिक्षा दीक्षा मिली. शाश्वती बताती हैं कि उन्हें सिर्फ दो बेटी है, जिसमें बड़ी अनन्या किशोर क्लैट की परीक्षा उत्तीर्ण कर एनएमआईएमएस मुंबई से लॉ की पढ़ाई कर रही है. जबकि दूसरी बेटी अनुष्का ने पूरे देश में प्रथम स्थान पाकर माता-पिता के साथ-साथ जमुई का भी नाम रोशन किया है. अनुष्का ने यह साबित किया कि अगर हौसला बुलंद हो तो छोटे शहरों में रहकर भी पढ़ाई करते हुए सफलता के शीर्ष पर पहुंचा जा सकता है.

Advertisement

अनुष्का बताती है कि उसकी बड़ी बहन अनन्या किशोर ने ही उसे होटल मैनेजमेंट जैसी प्रतिष्ठित एनटीए द्वारा आयोजित परीक्षा में शामिल और सफल होने के सारे गुर सिखाए थे. उसकी इतनी बड़ी सफलता में उसकी बड़ी बहन अनन्या का विशेष योगदान रहा है. 2005 में जन्म लेने वाली महज 16 साल की अनुष्का छात्रों को सफलता के लिए मार्ग भी दिखा रही है. निराश छात्र-छात्राओं को वो कहती हैं कि मेडिकल और इंजीनियरिंग के अलावे भी देश में एक से बढ़कर एक अन्य क्षेत्र में भी सफलता के कई सारे अवसर भरे पड़े हैं, जिसे प्राप्त करने की आवश्यकता है.

Advertisement

Advertisement