योगेश कथूनिया ने डिस्कस थ्रो में जीता रजत पदक, मां को समर्पित किया अपना मेडल

Advertisement

भारतीय पैरा-एथलीट योगेश कथूनिया ने भारत को चौथा रजत पदक दिलाया। योगेश कथूनिया ने सोमवार को टोक्यो पैरालंपिक्स के डिस्कस थ्रो एफ-56 कैटेगरी में रजत पदक जीता। डिस्कस थ्रो में भारत को रजत पदक दिलाने के बाद योगेश कथूनिया भावुक हो गए। उन्होंने प्यार और समर्थन देने के लिए तमाम देशवासियों का शुक्रिया अदा किया।

योगेश ने मां को समर्पित किया मेडल

Advertisement

पदक जीतने के बाद मीडिया से मुखातिब योगेश कथूनिया ने कहा कि मैं रजत पदक जीतने पर उत्साहित हूं। मैं स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया, पैरालंपिक कमिटी ऑफ इंडिया, विशेष रूप से अपनी मां और तमाम देशवासियों को उनके प्यार और समर्थन के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। योगेश कथूनिया के लिए ये पहला ओलंपिक था जो यादगार बन गया।

हरियाणा के रहने वाले हैं योगेश कथूनिया

Advertisement

योगेश कथूनिया मूलरूप से हरियाणा के बहादुरगढ़ के रहने वाले हैं। योगेश कथूनिया की जीत के बाद उनके पैतृक गांव में जश्न का माहौल है। वहां परिवार के सदस्यों और योगेश के दोस्तों ने नाच-गाकर योगेश की जीत का जश्न मनाया। लोगों ने एक दूसरे को मिठाई बांटी और जमकर आतिशबाजी की गई। गांव वालों ने कहा कि जब योगेश टोक्यो से वापस लौटेंगे तो उनका भव्य स्वागत किया जायेगा। हम सब योगेश का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

योगेश कथूनिया की जीत पर मां को गर्व

Advertisement

योगेश की मां ने भी बेटे के पदक जीतने पर खुशी जाहिर की। समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में योगेश की मां ने कहा कि ये रजत पदक मेरे लिए स्वर्ण पदक के बराबर है। आज मेरी खुशी को कोई सीमा नहीं है। मीना देवी ने कहा कि वे बेटे का बेसब्री से इंतजार कर रही हैं। गांव आने पर उसका रोली-चंदन लगाकर स्वागत करेंगी। योगेश का मनपसंद खाना भी खिलाएंगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने योगेश को बधाई दी

प्रधानमंत्री मोदी ने रजत पदक जीतने पर योगेश कथूनिया को बधाई दी। अपने ऑफिशियल ट्विटर पर पीएम मोदी ने लिखा कि योगेश कथूनिया ने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। खुशी है कि वो रजत पदक घर ला रहा है। योगेश की अनुकरणीय सफलता नवोदित खिलाड़ियों को प्रेरित करेगी। उसे बहुत बधाई। मैं योगेश को भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।

Advertisement
Advertisement