रक्षाबंधन पर बहनों को कोरोना से बचाव का सुरक्षा कवच देंगे भाई

समस्तीपुर। रक्षाबंधन की तैयारी पूरी कर ली गई है। शनिवार को देर शाम तक बाजार में जमकर खरीदारी की गई। बाजार में युवतियां और महिलाएं भाइयों के लिए जहां राखी खरीदतीं नजर आईं वहीं भाई भी अपनी बहनों के लिए तोहफे खरीद रहे थे। बहन और भाई तोहफे में देने के लिए उपहार के साथ मास्क, सैनिटाइजर और फेस शील्ड की किट भी लेते दिखे। बहनें भाइयों की सलामती के लिए हर जतन कर रही है। इस बार राखी के साथ मास्क भी खरीद रहीं हैं। इसके अलावे मिठाई व गिफ्ट आइटम की भी जमकर ब्रिक्री हुई।


स्नेह के साथ सुरक्षा का उपहार

कोरोना ने लोगों की जिदगी को तो प्रभावित किया है, साथ ही साथ त्योहारों पर भी इसका असर दिखाई दे रहा है। रक्षाबंधन के त्योहार पर भाई बहनों को लग्जरी गिफ्ट देने की सोचते थे, लेकिन महामारी के इस दौर में हर कोई अपने स्वजनों की सुरक्षा के बारे में सोच रहा है। ऐसे में रक्षाबंधन पर इस बार भाइयों ने बहनों को उपहार के साथ कोरोना से बचाव व सुरक्षा कवच देने की तैयारी की है। वैसे तो हर कोई कामना करता है कि उनके स्वजन इस बीमारी से बचे रहें, लेकिन संक्रमण को फैलने से रोका जाए और कोई इसकी चपेट में न आए, इसलिए उन्होंने ये उपहार अपनी बहनों के लिए चयन किया है। मान्यता के अनुसार श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को रक्षाबंधन पर बहनें भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं तो भाई भी बहनों की सुरक्षा का वचन देते हैं। पंडित रामाकांत ओझा ने बताया कि श्रावण पूर्णिमा को रक्षाबंधन के लिए सुबह 5 बजकर 45 से शाम 5 बजकर 9 मिनट तक शुभ मुहुर्त है।


क्या कहते हैं लोग

रक्षाबंधन पर बहन के लिए उपहार के साथ मास्क व सैनिटाइजर भी लिया है। घर से बाहर निकलने पर उसे इसकी आवश्यकता होगी।

रोहित आनंद


भाई की सुरक्षा से बढ़कर मेरे लिए कुछ नहीं है। रक्षाबंधन के साथ मैंने अपने भाई के लिए मास्क का पूरा पैकेट ही खरीद लिया है।

सोनाली


कोरोना संक्रमण लोगों को प्रभावित कर रहा है। इसलिए रक्षाबंधन पर बहन को उपहार के लिए कोविड कीट का सुरक्षा कवच लिया है।

आनंद गौरव


मैंने बहन के लिए उपहार के साथ मास्क, सैनिटाइजर और फेस शील्ड लिया है। कोरोना की तीसरी लहर काफी खतरनाक बताई गई है।

संकल्प


भाई के लिए राखी के साथ मास्क व सैनिटाइजर भी खरीदा है। ताकि, घर से बाहर निकलने पर वह कोरोना से पूरी तरह सुरक्षित रहे।

संस्कृति