पटना में दो पैर वाले डॉग का जन्म:लेब्राडोर प्रजाति के अद्भुत डॉग को देखने के लिए जुटी भीड़, लोहे की ट्राली से चलाने की व्यवस्था

Advertisement

पटना के राजा बाजार में लेब्राडोर प्रजाति के एक अद्भुत कुत्ते का जन्म हुआ है। वह पूरी तरह से स्वस्थ है लेकिन आगे का दो पैर बना ही नहीं है। ऐसा मामला अब नहीं पाया जाता है, इस कारण सूचना मिलते ही देखने वालों की भीड़ लग गई। अब कुत्ते को चलाने के लिए लोहे की ट्राली का जुगाड़ बनाया जा रहा है, जिससे उसे थोड़ी राहत मिले।

पशु चिकित्सकों का कहना है कि कुत्तों में अब ऐसा केस नहीं दिखाई पड़ता है, जिसमें शरीर का कोई अंग बना ही नहीं हो। इस कुत्ते के साथ हुए 2 अन्य बच्चों में कोई समस्या नहीं है।

Advertisement

रेशमा सिंह के घर लोगों की भीड़

पशु चिकित्सक डॉ जयप्रकाश का कहना है कि कुत्तों की डिलीवरी 59 से 62 दिन में हो जाती है। पटना के राजा बाजार की रहने वाली रेशमा सिंह की डॉग ने 63 दिन पर 3 बच्चों को जन्म दिया। 3 बच्चों में एक बच्चा काफी अद्भुत रहा इस कारण से उसकी मां को भी जान का खतरा था। काफी प्रयास के साथ सुरक्षित डिलीवरी कराई गई जिसमें मां को बचाया गया।

डॉ जयप्रकाश का कहना है कि 3 बच्चों में 2 पूरी तरह से ठीक हैं उन्हें कोई समस्या नहीं है, एक बच्चा ऐसा है जो जिसके आगे के दो पैर ही नहीं है। सोमवार को जब ऐसे कुत्ते के बच्चे की जन्म की खबर लोगों को लगी तो भीड़ लग गई। लोग इस अद्भुत कुत्ते को देखले के लिए पहुंचने लगे।

Advertisement

दो पैर वाला कुत्ता भी बनेगा नजीर

डॉ जयप्रकाश का कहना है कि कुत्ते के अविकसित अंग से परेशानी बढ़ गई है। पीछे का दोनों पैर है। लेकिन आगे का पैर बना ही नहीं है। ऐसा समय से पहले डिलीवरी में होता है, लेकिन समय पूरा होने के बाद भी ऐसा होना अद्भुत है। इसी कारण से देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी। डॉ जय प्रकाश का कहना है बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है इस कारण से वह जिंदा रहेगा।

अब उसके चलने के लिए लाेहे की विशेष ट्रॉली बनवाई जाएगी। लोहे की ट्राली या कृत्रित पैर बनाकर उसे चलाया जाएगा। डॉ जय प्रकाश का कहना है कि यह कुत्ता भी एक नजीर बनेगा। इसे कृत्रिम का पैर बनवाया जाएगा और सामान्य कुत्तों की तरह ट्रेनिंग देकर चलने और एक्टिव रहना सिखाया जाएगा।

Advertisement
Advertisement