बिहार को नीतीश कुमार ने दी 350 एंबुलेंस और 50 बस की सौगात, कहा- प्रदूषण नियंत्रण के लिए सीएनजी सेवा जरूरी

बिहार को आज शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ी सौगात दी है. यह सौगात उन्होंने परिवहन क्षेत्र में दी है. उन्होंने सूबे के लोगों को 350 एंबुलेंस और 50 सीएनजी बसों का उपहार दिया है. आज इसका शुभारंभ किया गया. उन्होंने झंडी दिखाकर बसों को रवाना किया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ परिवहन मंत्री शीला कुमारी समेत परिवहन विभाग के वरीय पदाधिकारी मौजूद रहे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एंबुलेंसों और सीएनजी बसों के उद्घाटन के मौके पर कहा कि प्रदूषण नियंत्रण के लिए सीएनजी सेवा जरूरी है. एंबुलेंस सेवा से ग्रामीण क्षेत्रों को लाभ मिलेगा. जरूरतमंद लोगों को इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा. एंबुलेंस के लिए लोगों को कोरोना संक्रमण के दौर में काफी भटकना पड़ा था. हालांकि कोरोना तो अब न आया है, लेकिन इसके पहले हमलोग इसके लिए प्रयासरत थे कि गांव में लोगों को शहर के अस्पताल में आने में कोई प्रॉब्लम नहीं हो. फिलहाल हर प्रखंड में दो-दो एंबुलेंस दिए जाएंगे. अभी 350 दिए गए हैं और जल्द ही 800 और दिए जाएंगे. इस साल के अंत तक इसका कोटा पूरा कर लिया जाएगा.

इतना ही नहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जाति आधारित जनगणना को लेकर भी खुलकर सामने आ गए हैं. उन्होंने फिर से दोहराया है कि जातीय जनगणना होनी ही चाहिए. कास्ट बेसिस सेंसस गरीब-गुरबों के उद्धार के लिए बहुत जरूरी है. लेकिन हमलोग केंद्र सरकार से आग्रह ही कर सकते हैं न. उन्होंने कहा कि एक बार निश्चित रूप से जातिगत जनगणना देश में होनी चाहिए. इससे एससी-एसटी के अलावा भी अन्य कमजोर वर्ग है, उनकी वास्तविक संख्या की जानकारी होगी और सभी के विकास के कार्यक्रम बनाने में सहायता मिलेगी. उन्होंने कहा कि हमलोग केंद्र से एक बार फिर आग्रह करेंगे कि जातिगत जनगणना कराई जाए.