समस्तीपुर यह शहर नहीं दरिया है, इसमें डूबकर जाना है

समस्तीपुर। मानसून की पहली बारिश ने ही नगर निगम के दावों की पोल खोल दी। शहर में जल जमाव की भीषण समस्या उत्पन्न हो गई है। शहर की मुख्य सड़कें हो या गली मोहल्ले बारिश के पानी में डूब गए। खासकर निचले इलाकों में घुटने भर से अधिक पानी का भराव है। कई घरों में भी बारिश का प्रवेश कर गया। लगातार रुक रुक कर हो रही बारिश ने शहर में जल निकासी के इंतजामों की पोल खोल कर रख दी है। वहीं नगर परिषद के दावों की असलियत भी जग जाहिर हो गई। यहां तक पॉश इलाकों में भी लोगों के घरों में बारिश में बारिश का पानी घुस गया है। गलियों का तो और भी बुरा हाल है। सड़कों पर जमा घुटने भर पानी से होकर लोग आ जा रहे हैं। नगर परिषद के अधिकांश नाले जाम पड़ने के कारण सड़कों पर जलजमाव की स्थिति चिताजनक बनी हुई है। शहर के कई इलाकों में लोग जल जमाव की पीड़ा झेल रहे हैं। आरएनएआर कॉलेज रोड, बीएड कॉलेज रोड आदि की स्थिति देखकर पता भी नहीं चलता है कि यह शहर का ही हिस्सा है। इन जगहों की स्थिति दरिया जैसी बन गई है। इसमें डूबकर निकलना ही लोगों की विवशता है।

घरों से निकलना हुआ दूभर, सड़कों पर फैला पानी

शहर के बीएड कालेज, वार्ड 04 अमीरगंज, वार्ड 08 प्रोफेसर कॉलोनी, वार्ड 07 और 08 काशीपुर, वीर कुंवर सिंह कॉलोनी, सोनवर्षा चौक, कचहरी रोड, ग‌र्ल्स हाइ स्कूल रोड, मोहनपुर, बारहपत्थर, धर्मपुर समेत एक दर्जन से अधिक मुहल्लों में जलभराव की समस्या उत्पन्न हो गई है। शहर के बीएड कालेज के निकट सड़कों पर दो फीट पानी का भराव है। लोगों को घरों से निकलने में भी परेशानी हो रही है।

नदियों के जलस्तर बढ़ने का सिलसिला जारी

बारिश के चलते नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार समस्तीपुर रेल पुल स्थित बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर 44.13 सेमी पर आ गया है, जो खतरे के निशान 45.73 से 1.58 सेमी नीचे है। वहीं रोसड़ा रेल पुल के निकट बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर 41.91 सेमी है, जो खतरे के निशान 42.63 से 1.44 सेमी नीचे है। मोहनपुर सरारीघाट पर गंगा नदी का जलस्तर 44.40 सेमी है, जो खतरे के निशान 45.50 से 1.10 सेमी नीचे है। वहीं हायाघाट में बागमती नदी का जलस्तर 40.16 है, जो खतरे के निशान 45.72 से 2.56 सेमी नीचे है। इधर, कुछ दिनों से लगातार रुक रुक कर हो रही बारिश के चलते नदियों का जलस्तर बढ़ने का सिलसिला शुरू हो गया है।

Input-Jagran