बिहार के राज्‍यपाल ने किया प्रसिद्ध बोधगया मंदिर सलाहकार पर्षद का गठन, इन 10 देशों के राजदूत भी होंगे शामिल

बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने बोधगया मंदिर सलाहकार पर्षद का गठन किया है। इसमें दस बौद्ध देशों के राजदूतों के साथ, देश के बौद्ध मठों, मंदिरों सोसायटी के अलावा स्थानीय सांसद, विधायक, पुलिस और प्रशासनिक सेवा के वरीय अधिकारियों को शामिल किया गया है। गृह विभाग की विशेष शाखा ने सोमवार को इसकी अधिसूचना जारी कर दी।

आदेश के अनुसार, सलाहकार पर्षद मुख्य रूप से बोधगया मंदिर प्रबंधन समिति के सलाहकार निकाय के रूप में काम करेगी और इसके लिए बनाई गई नियमावली के अनुसार अपने कर्तव्यों का पालन करेगी। सदस्यों का कार्यकाल दो वर्षों का होगा। सलाहकार पर्षद की बैठक की अध्यक्षता दस देशों के राजदूतों में से कोई एक करेंगे।

बौद्ध देशों के सदस्य : भूटान, थाईलैंड, श्रीलंका, म्यांमार, जापान, कंबोडिया, मंगोलिया, दक्षिण कोरिया, वियतनाम और लाओस के राजदूत।

भारत के सदस्य : दलाई लामा के प्रतिनिधि, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश व लद्दाख सरकार के धार्मिक विभाग के सचिव, महाबोधि सोसाइटी आफ इंडिया, कोलकाता के महासचिव, बोधगया स्थित अंतरराष्ट्रीय बौद्ध मठों-मंदिरों के प्रतिनिधि।

अन्य सदस्य : गया के सांसद, बोधगया के विधायक, मगध प्रमंडल के आयुक्त, मगध रेंज के पुलिस आइजी, गया के जिलाधिकारी, बोधगया नगर पंचायत के अध्यक्ष, नई दिल्ली स्थित भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक, केंद्रीय विदेश मंत्रालय व पर्यटन मंत्रालय के सचिव, बिहार पर्यटन विभाग और कला संस्कृति विभाग के सचिव।