कुत्ते की मृत्यु पर मालिक ने किया अंतिम संस्कार, फूलों से सजाकर बैंड-बाजे के साथ निकाली शवयात्रा स्मृति में बनायेंगे स्‍मारक

वफादारी में मरणोपरांत दिए जा रहे सम्मान के कायल हुए लोग

आत्मा की शांति के लिए करेंगे तेरहवीं का भोज

इंसान और कुत्तों के बीच प्रेम का उदाहरण आपने कई बार देखा होगा। साथ ही ऐसी कई कहानियां भी सुनी होगी। कुत्तों और इंसान को लेकर कई फिल्‍में भी बन चुकी हैं। बाॅलीवुड में ही सन 1985 में एक मूवी ‘तेरी मेहरबानियां’ आई थी। जिसमें जैकी श्रॉफ और पूनम ढिल्लो मुख्‍य किरदार में थे। इसमें कुत्ते और इंसान की मोहब्‍ब‍त को बखूबी दिखाया गया है। ऐसे ही प्रेम का उदाहरण विद्यापतिनगर प्रखंड की शेरपुर ढेपुरा पंचायत के शेरपुर दियारा गांव में देखने को मिला।जहां निकली एक अनोखी शव यात्रा ने बरबस ही मानवीय संवेदनाओं को संबल प्रदान किया है।

शेरपुर ढेपुरा पंचायत के शेरपुर दियारा निवासी नरेश साह ने अपने कुत्ते की मौत होने के बाद मंगलवार को हिंदू रीति-रिवाज से उसकी अंतिम विदाई कर पशु-प्रेम की अनूठी मिशाल पेश की है। बैंड-बाजों की धुनों के बीच टाॅनी की शवयात्रा में चलते लोगों की आंखें जहां नम थीं । वहीं हर कोई एक मालिक द्वारा कुत्ते की वफादारी में मरणोपरांत दिए जा रहे सम्मान का कायल हो रहे थे।

सोनपुर मेला से 12 साल पहले टाॅनी को अपने घर लायें थे नरेश

पेशे से ग्रामीण चिकित्सक नरेश कुमार साह बताते हैं कि करीब 12 साल पहले सोनपुर मेला से एक विदेशी नस्ल का कुत्ता खरीद कर लाया था। बचपन से ही उसे बङे लाङ-दुलार से पाल रखा था। घर के सदस्यों सरीखा रहने वाला टाॅनी आसपास के लोगों की आंखों का भी तारा था। टाॅनी की मौत के बाद हम सबने मिलकर उसे ऐसी विदाई देने की सोची, जो लोगों के लिए प्रेरणा बन सके। जिस तरह से आदमी की मौत पर अंतिम यात्रा निकाली जाती है।उसी तरह टाॅनी की मौत के बाद उसके लिए अर्थी बनवायी और उसकी अंतिम यात्रा निकाली गयी।

जिसमें उससे लगाव रखने वाले बहुतेरे लोग शामिल हो उसे अंतिम विदाई दी। गंगा की सहायक वाया नदी के

किनारे जिस जगह टाॅनी को दफनाया गया है। वहां अलग-अलग प्रजाति के काफी सारे पौधे भी लगाए जायेंगे। उस जगह उसकी याद में टाॅनी स्मृति स्मारक भी बनाया जाएगा। तेरहवीं का भोज भी आयोजित होगा।

वे कहते हैं कि टाॅनी मेरे लिए सिर्फ कुत्ता नहीं, बल्कि हमारे घर -टोला का रक्षक भी था। वह हम सभी के जिंदगी का एक हिस्सा था, जिसने पूरी वफादारी और ईमानदारी से अपनी जवाबदेही निभाई ।

ठेले पर फूल मालाएं और साउंड सिस्टम

नरेश ने अपने कुत्ते की शव यात्रा के लिए सारे इंतजाम किए। एक ठेले पर उसका शव रखा। शव पर फूल मालाएं और कफन से कुत्ते के शव को लपेट कर रखा। साउंड सिस्टम भी ठेले पर ही लगाया। फिर क्या था, जहां-जहां से ये शव यात्रा निकली, लोग जुड़ते चले गए। नरेश ने बताया कि उसके लिए ये कुत्ता काफी भाग्यशाली था। वो कुत्ता जब से उसके घर आया था तब से घर में काफी तरक्की हुई। आज जब कुत्ता मरा तो, तेरी महरबानियां गाने के साथ कुत्ते की याव यात्रा निकाली गयी।टाॅनी के सम्मान में ग्रामीणों ने उसके शव के ऊपर फूल चढ़ाकर श्रद्धांजली अर्पित की।महिलाओं ने शव पर अबीर, गुलाल और सुगंधित इत्र लगाए। उसके लिए बांस की अर्थी बनवायी गयी और बैंड-बाजे के साथ निकली शव यात्रा में लोगों का हुजुम उमड़ पड़ा। आज एक ओर जहां प्रतिदिन मानवता को शर्मसार करने वाली घटना हर रोज सामने आती रहती हैं, वहीं एक कुत्ते के मरने के बाद पूरे विधि-विधान के साथ अंतिम संस्कार कर उसकी वफादारी को सम्मान देना पशु-प्रेम का नायाब उदाहरण पेश कर रहा था।

Input- पद्माकर लाला