पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर नीतीश कुमार पड़े अकेले, JDU-BJP नेताओं ने भी किया विरोध

Advertisement

जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव की गिरफ्तारी का अब नीतीश कुमार के नेता ही विरोध कर रहे हैं. बेगुसराय के पूर्व सांसद और नीतीश कुमार के करीबी जेडीयू नेता मोनाजिर हसन ने कहा कि पप्पू यादव की गिरफ़्तारी की जितनी निंदा की जाए वो कम है, वो ग़रीबों के मसीहा के तौर पार काम कर रहे थे.

Advertisement

जेडीयू नेता मोनाजिर हसन ने कहा कि गिरफ़्तारी तो छपरा के डीएम और राजीव प्रताप रूडी की होनी चाहिए थी. मुसीबत के समय जब पप्पू ग़रीबों की मदद कर रहे थे, तब उनकी गिरफ़्तारी बेहद ही निंदा का विषय है. वहीं, संदेश के पूर्व विधायक और जेडीयू नेता विजयेंद्र यादव ने भी पप्पू यादव की गिरफ़्तारी पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

जेडीयू नेता विजयेंद्र यादव ने पप्पू यादव की गिरफ़्तारी को ग़लत बताते हुए कहा कि मानवता के आधार पर राजीव प्रताप रूडी को एक मिनट भी सांसद रहने का अधिकार नहीं है, पप्पू यादव को मानवता के आधार पर सरकार को छोड़ना चाहिए, एंबुलेंस प्रकरण की जांच कर डीएम को बर्खास्त और सांसद का इस्तीफ़ा कराना चाहिए.

Advertisement

उधर बीजेपी एमएलसी रजनीश कुमार ने भी पप्पू यादव की गिरफ़्तारी को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए उन्हें अविलम्ब रिहा किए जाने की मांग की है. बिहार एनडीए में शामिल दूसरे सहयोगियों हम और वीआईपी भी पप्पू की गिरफ्तारी का विरोध कर चुके हैं. जीतन राम मांझी और मुकेश सहनी ने पहले ही इस गिरफ़्तारी का विरोध किया था.

आपको बता दें कि पप्पू यादव को मंगलवार(11 मई) को पटना में गिरफ्तार कर लिया गया था. यह गिरफ्तारी 32 साल पुराने एक अपहरण केस में हुई है. पटना से उन्हें मधेपुरा लाया गया. जहां कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. फिलहाल, पप्पू यादव को सुपौल जिले की वीरपुर जेल में रखा गया है.

Advertisement

Source : Aaj Tak

Advertisement

Advertisement