कोरोना संक्रमितों को बचाने के लिए एहतियात के साथ करते ड्यूटी,ड्यूटी के प्रति दिखा रहे दीवानगी

समस्तीपुर । परिवार उनका भी है, लेकिन ड्यूटी की खातिर सब कुछ छोड़ मरीजों की सेवा में जुटे हुए हैं। कोरोना महामारी के बीच मरीजों को बचाने के लिए एंबुलेंस दौड़ रही है। चालकों के साथ इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन (ईएमटी) भी डटे हुए हैं। कोशिश यही रहती है कि मरीजों को सही समय से अस्पताल पहुंचाया जा सके। इस बीच कोई ट्रीटमेंट्स की जरूरत होती है तो वह भी देते हैं। मरीजों को ले जाने में पूरी एहतियात बरतते हैं। जबसे कोरोना शुरू हुआ है, तबसे लगातार ड्यूटी कर रहे हैं। संक्रमण की शुरुआत में पहले तो थोड़ा डर लगा, लेकिन जान की परवाह न करते हुए मरीजों की सेवा में लगे हुए हैं। सदर अस्पताल में कार्यरत ईएमटी फुलबाबू का कहना है कि संक्रमित मरीजों को अस्पताल लाने में बहुत ही एहतियात बरतनी पड़ती है। गंभीर मरीजों को आक्सीजन भी देनी पड़ती है। प्राथमिकता के आधार पर मरीजों की जान बचाना वह अपना कर्तव्य समझते हैं।

ड्यूटी के प्रति दिखा रहे दीवानगी

फूलबाबू बताते हैं कि उनकी ड्यूटी सदर अस्पताल में लगी है। यहां पर प्रत्येक दिन कोरोना संक्रमित मरीज इलाज के लिए भर्ती हो रहे है। उनकी ड्यूटी भी कोविड मरीज के लिए एंबुलेंस में लगाई गई है। संक्रमण से बचने के लिए हरसंभव सुरक्षा बरतने का प्रयास करते है। मरीज को अस्पताल में पहुंचाकर पूरी एंबुलेंस के साथ-साथ खुद को सैनिटाइज करना पड़ता है। इन दिनों घर में भी अलग-थलग रहना पड़ता है, ताकि परिवार सुरक्षित रहे। कोरोना से डरना नहीं, लड़ना है, इसलिए हर वक्त सावधान रहना होगा।