तेजस’ की नींव रखने वाले बिहार के वैज्ञानिक डॉक्टर मानस बिहारी वर्मा का निधन, मिसाइल मैन के लिए थे खास

Advertisement

दरभंगा जिला के घनश्यामपुर प्रखंड के बाउर गांव से निकल कर देश ही नहीं दुनिया में अपना नाम रौशन करने वाले मानस बिहारी वर्मा का देहांत हो गया. कुछ दिनों से वो अस्वस्थ भी थे लेकिन बीती रात यानी सोमवार को हार्ट अटैक होने से उनकी मौत दरभंगा के लहेरियासराय स्थित निवास स्थान पर हो गई. उनके मौत की खबर के बाद शोक की लहर है.

Advertisement

दरभंगा में जन्म, ऐसा रहा था करियर

मानस बिहारी वर्मा का जन्म दरभंगा जिला के घनश्यामपुर प्रखंड के बाउर गांव में ही हुआ था. उनके पिता का नाम किशोर लाल दस था. तीन भाई और चार बहनों का परिवार है. उनकी स्कूली शिक्षा मधेपुर के जवाहर हाई स्कुल से पूरी हुई थी जिसके बाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना और कलकत्ता विश्वविद्यालय से अध्यन किया था. मानस बिहारी वर्मा ने 35 वर्षों तक DRDO में एक वैज्ञानिक के रूप में काम किया. उन्होंने बैंगलोर, नई दिल्ली और कोरापुट में स्थापित विभिन्न वैमानिकी विभागों में भी काम किया. मानस बिहारी को लंबे समय तक पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के साथ काम करने का मौका भी मिला.

Advertisement

कलाम साहब के खास मित्र

डॉ मानस बिहारी वर्मा डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के अभिन्न मित्र रहे. 1986 में तेजस फाइटर जेट विमान बनाने के लिए टीम बनी थी उस समय लगभग 700 इंजीनियर इस टीम में शामिल किए गए थे. डॉक्टर वर्मा ने इस टीम में बतौर मैनेजमेंट प्रोग्राम डायरेक्टर के रूप में अपना योगदान दिया था.

Advertisement

वैज्ञानिक से बने समाजसेवी

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) से जुलाई, 2005 में सेवानिवृत्त होने के बाद बेंगलुरु में पांच सितारा जीवन को त्यागकर वो अपने गांव पहुंच गए. अवकाश के बाद दरभंगा जिले का शायद ही कोई गांव है, जहां उनकी टीम नहीं पहुंची है. जिन स्कूलों में विज्ञान शिक्षक का अभाव रहता है, वहां टीम मेंबर बच्चों को प्रयोग कराते हैं. मोबाइल वैन के जरिये एक स्कूल में दो से तीन माह कैंप कर बच्चों को विज्ञान और कंप्यूटर की बेसिक जानकारी दी जाती है.

Advertisement

मिला था पद्म श्री सम्मान

मानस वर्मा को कई सम्मान से भी सम्मानित किया गया था. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने डॉ. मानस बिहारी वर्मा को साइंटिस्ट ऑफ द ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया था. 2018 में उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा पद्म श्री सम्मान से सम्मानित किया गया था.

Advertisement
Advertisement