बिहार मनरेगा के कार्यो की बढ़ी रफ्तार, प्रवासियों को मिला रोजगार

समस्तीपुर । ग्रामीण विकास मंत्री-सह जिला के प्रभारी मंत्री श्रवण कुमार ने बताया कि समस्तीपुर जिला के 20 प्रखंडों की कुल 381 में से वर्तमान में 358 ग्राम पंचायतों में मनरेगा से काम चल रहा है। इसमें लगभग 20 हजार योजनाओं में 44 हजार से अधिक मजदूर काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिले में इस वित्तीय वर्ष में अबतक 10 लाख 83 हजार से अधिक मानव दिवस सृजित किये जा चुके हैं एवं प्रतिदिन प्रति पंचायत 77 मानव दिवस औसतन सृजित किये जा रहे हैं।

मंत्री श्री कुमार ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण राज्य के बाहर से भारी संख्या में बिहार लौटे प्रवासी मजदूरों एवं लॉकडाउन के कारण भी राज्य के शहरी क्षेत्रों से ग्रामीण क्षेत्रों में लौटे लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा योजना में अधिक से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने का निदेश विभागीय स्तर से दिया गया है। साथ ही जिन्हें जॉब-कार्ड उपलब्ध नहीं है, उन्हें कैम्प लगाकर यथाशीघ्र जॉब कार्ड उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया है। उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में अबतक 2 हजार 18 जॉब कार्ड निर्गत किए गए हैं जिसमें 2 हजार 763 मजदूरों को जोड़ा गया है । जबकि जिले में कुल 8 लाख 32 हजार 278 जॉब कार्ड निर्गत हैं। इसमें अनु. जाति के 1 लाख 68 हजार 507, अनु. जनजाति के 3 हजार 184 एवं अन्य 6 लाख 58 हजार 587 शामिल हैं।

जिले में संचालित मनरेगा के बारे में चर्चा करते हुए ग्रामीण विकास मंत्री ने बताया कि जिले में मनरेगा योजना से 2 लाख 79 हजार 950 योजनाएं प्रारंभ की गई थीं जिसमें से 1 लाख 19 हजार 596 योजनाएं पूर्ण हैं। एवं 1 लाख 60 हजार 354 योजनाओं पर काम चल रहा है। यह भी बताया कि जिला में संचालित मनरेगा योजनाओं पर वित्तीय वर्ष 2021-22 में मजदूरी मद में अबतक 25 करोड़ 60 लाख रुपये जबकि सामग्री मद में 25 करोड़ 75 लाख यानी कुल 51 करोड़ 35 लाख रुपये व्यय किया गया है। जिला में ससमय मजदूरी भुगतान का प्रतिशत 95.61 प्रतिशत है।

मंत्री श्री कुमार ने कोरोना संक्रमण की चर्चा करते हुए बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रसार को देखते हुए कार्यस्थल पर सभी ऐहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है। विगत वित्तीय वर्ष में समस्तीपुर जिला में मनरेगा मजदूरों के बीच 39 हजार 650 मास्क का वितरण किया गया था जबकि चालू वित्तीय वर्ष में मनरेगा मजदूरों के बीच 9 हजार 65 मास्क का वितरण अबतक किया जा चुका है। प्रवासी मजदूरों के बारे में उन्होंने बताया कि विगत वित्तीय वर्ष में समस्तीपुर जिला में कुल 23 हजार 932 प्रवासी मजदूर अपने घरों को लौटे थे जबकि इस वित्तीय वर्ष में अबतक 1 हजार 950 प्रवासी मजदूरों के लौटने की सूचना है।