समस्तीपुर जरूरतमंदों को ऑक्सीजन के साथ एंबुलेंस भी मुहैया करा रहे सिकंदर

समस्तीपुर । कोरोना संक्रमण के इस दौर में लोग चाह कर भी अपने रिश्तेदार तक को मदद नहीं कर पाते हैं। लेकिन रोसड़ा का एक युवक लगातार जरूरतमंदों को मुफ्त ऑक्सीजन देने के साथ अपनी एंबुलेंस भी मुहैया करा रहा हैं। भले वह कोरोना वायरस संक्रमित हो या किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित, फोन आते ही तत्परता के साथ मरीज तक ऑक्सीजन भेजना इन दिनों इनकी दिनचर्या में शामिल है। रमजान के इस पवित्र महीने में रोजेदार रहने के बावजूद सिकंदर आलम की सेवा भावना में कोई कमी नहीं दिख रही है। दूसरे दौर के कोरोना संक्रमण प्रारंभ होने के बाद शहर से गांव तक ऑक्सीजन को लेकर भटकते मरीज के परिजनों की परेशानी देख इस युवा ने संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन पहुंचाने की ठान ली। चिकित्सकों एवं प्रशासन से आग्रह कर ऑक्सीजन की व्यवस्था स्वयं करके मरीजों तक पहुंचना शुरू कर दिया।

अब तक रोसड़ा के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र समेत हसनपुर ,शिवाजीनगर, सिधिया एवं विभूतिपुर प्रखंड के पचास से अधिक मरीजों को ऑक्सीजन की सेवा दे चुके हैं। वही घर से अस्पताल या अनुमंडल अस्पताल से रेफर हो समस्तीपुर और दरभंगा जाने के लिए गरीब मरीजों को मुफ्त में एंबुलेंस भी मुहैया करा रहे हैं। आइसोलेशन सेंटर में इलाजरत हीरा मिश्र ने इस युवक को वर्तमान संक्रमण काल में मरीजों के लिए मसीहा करार दिया है। उन्होंने एक कॉल पर महज आधे घंटे के अंदर ऑक्सीजन लगे एंबुलेंस के साथ सिकंदर का उनके घर पहुंचना और पर्याप्त ऑक्सीजन मुहैया कराने के साथ ही चिकित्सक की सलाह के अनुसार आइसोलेशन सेंटर पहुंचाने की जानकारी दी। इसी प्रकार शहर के संजीव कुमार, दामोदरपुर के सुंदरम सूर्यवंशी, हसनपुर के विनय कुमार, शिवाजीनगर के राघवेंद्र मंडल समेत दर्जनों लोगों ने सिकंदर आलम की सेवा की सराहना करते हुए इस ऑक्सीजन मैन को मानवता का मिसाल करार दिया है। इस संबंध में पूछे जाने पर सिकंदर आलम ने कहा कि इस अति विषम परिस्थिति में एक दूसरे का सहयोग ही सबसे बड़ी मानवता है। उन्होंने रमजान के पवित्र महीने में प्रत्येक दिन रोजा रखना बताते हुए कहा कि ऊपर वाले की रहमत से ही यह सब संभव हो रहा है। वही वरिष्ठ लोक मंच के अध्यक्ष प्रो. शिव शंकर प्रसाद सिंह एवं सचिव रामेश्वर पूर्वे ने सिकंदर आलम को कोरोना काल का आदर्श युवक बताते हुए आम युवाओं से भी अनुकरण करने की अपील की है।