समस्तीपुर 106 वर्ष की उम्र में स्वतंत्रता सेनानी यदुनंदन बाबू का निधन

Advertisement

रोसड़ा में स्वतंत्रता सेनानी यदुनंदन प्रसाद सिंह का निधन बुधवार की देर रात्रि उनके पैतृक आवास दामोदरपुर ग्राम में हो गया। वे तकरीबन 106 वर्ष के थे। अपने पीछे वे भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। कोरोना गाइडलाइन के सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए उनका अंतिम संस्कार स्थानीय बूढ़ी गंडक स्थित पुल घाट के समीप किया गया। मुखाग्नि उनके पौत्र संतोष कुमार सिंह ने दी। मृत्यु की सूचना मिलते हीं बीडीओ अनुरंजन कुमार और सीओ अंबपाली यादव स्वतंत्रता सेनानी के घर पहुंचकर तिरंगे में शव को लपेटकर माल्यार्पण और पुष्पांजली अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही शोक संतप्त परिवार के लोगों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से कामना की। इसके अलावा मृतक के घर पर उनका अंतिम दर्शन करने वालों तथा परिवार के लोगों को ढांढ़स बढ़ाने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी । नम आंखों से लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी वीरता का बखान किया। बता दें कि स्वतंत्रता सेनानी यदुनंदन बाबू अंग्रेज भारत छोड़ो आंदोलन में अग्रणी भूमिका का निर्वहण किया था।

Advertisement

वे गांधी जी के सत्याग्रह और नमक आंदोलन में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। साथ ही अंग्रेजी हुकूमत के दौरान रोसड़ा समेत कई थानों पर तिरंगा लहराने का काम किया था। उन्होंने आजादी की लड़ाई में अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए थे। आंदोलन की मजबूती को लेकर शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के दूर-दराज के लोगों को जोड़ने का काम किया। अंतिम दम तक अंग्रेज शासक के सामने घुटना नही टेका। अंतत: अंग्रेजों को भारत छोड़कर भागना पड़ा। बता दें कि वे अत्यधिक उम्र के कारण कुछ दिनों से अपने घर पर ही बीमार चल रहे थे। 28 अप्रैल देर रात्रि अचानक उन्हें सांस लेने में कुछ कठिनाई महसूस हुई। उनके कुछ ग्रामीण व स्वजनों ने ऑक्सीजन के लिए अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचकर चिकित्सकों से घर पर उपचार के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग की। ड्यूटी पर कार्यरत चिकित्सक ने सिलेंडर देने से इन्कार करते हुए कहा कि अस्पताल में उपचार के लिए यह मुहैया कराया गया है। आप उन्हें इलाज के लिए अस्पताल लेते आएं। निजी वाहन से घर से अस्पताल ले जाने की तैयारी में लोग कर रही रहे थे कि उन्होंने दम तोड़ दिया। जबकि अस्पताल प्रशासन ने इसे बेबुनियाद और निराधार बताया है।

Advertisement

Advertisement