इंसानियत की मिसाल: कोरोना पॉजिटिव को मुफ्त में खाना खिला रही हैं ये तीन महिलाएं

Advertisement

कोरोना का संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा है कि पूरा का पूरा परिवार चपेट में आ जा रहा है। स्थिति यह है कि घर में कोई खाना बनाने वाला भी नहीं बच रहा है। बिना खाये बीमारी से कैसे लड़ा जा सकता है। अधिक समय तक भूखे रहने पर बीमारी और भयावह हो जा रही है। ऐसे ही लोगों की पेट भरने के लिए कुछ महिलाओं ने मदद के हाथ बढ़ाए हैं।

Advertisement

वह बताती हैं कि गरीब तो कहीं भी मांगकर खा लेता है, लेकिन मध्यम वर्गीय परिवार न मांग कर खा पाता है और न किसी को कुछ कह पाता है। कोरोना ने भी सबसे अधिक इसी वर्ग को प्रभावित किया है। फेसबुक और ट्विटर से मदद मांगी जाती है। घर पर जो भी है वही बनाकर लोगों को पैक कर भेजती हूं। दो दिन से शुरुआत की है। हर दिन 50 पैकेट खाना बनाकर दे रही हूं।

अनुपमा और नीलिमा सिंह पांच दिनों से मुफ्त में खाना खिला रही हैं। वैसे लोग जो कोरोना पॉजिटिव हैं और होम आइसोलेशन में हैं, उनके लिए खाना बनाकर दे रही हैं। अनुपमा बताती हैं कि जो हम खा रहे हैं, वही खिला रही हैं। अनीसाबाद की प्रीति पांच दिनों से मुफ्त में खाना बनाकर खिला रही हैं। गृहिणी होते हुए बिना किसी की मदद के इस विकट समय में लोगों का पेट भरने का काम कर रही हैं।

Advertisement

Input: Live Hindustan

Advertisement

Advertisement