बिहारः 55 की उम्र में 25 साल की युवती से कर ली दूसरी शादी, पहली पत्नी बाली-मुझे ये दो तब मानूं

पहली पत्नी के रहते 55 वर्षीय अधेड़ ने 25 साल की युवती से शादी रचा ली। सूचना मिलते ही पहली पत्नी थाने पहुंच गई। महिला थाने की पदाधिकारी ने अधेड़ को काफी समझाया लेकिन उसने एक न सुनी। अंत में मामला कोर्ट चला गया। थक-हारकर पहली पत्नी ने 12 हजार गुजारा भत्ता की मांग की है।

दरअसल, सोहसराय थाना क्षेत्र के सिंगार हाट निवासी शंकर प्रसाद ने शादीशुदा होने के बावजूद महिला से विगत सात अप्रैल को बाबा मनीराम अखाड़ा परिसर में दूसरी शादी रचा ली जिसका विरोध पहली पत्नी उषा देवी ने किया। जब पति नहीं माना तो पत्नी महिला थाना पहुंच गई। पुलिस ने आरोपी शंकर प्रसाद और पहली पत्नी उषा देवी को थाने में बुलाया। दोनों को आपसी सुलह कर मामले का निपटारा करने को कहा, लेकिन बात नहीं बनी। मामला न सुलझता देख महिला थाना पुलिस ने दोनों पक्षों को सक्षम न्यायालय भेज दिया।

28 साल पहले की थी पहली शादी

उषा देवी ने बताया कि लगभग 28 वर्ष पूर्व शंकर प्रसाद से हिंदू रीति रिवाज के तहत विवाह हुआ था। वैवाहिक जीवन अच्छे से बीत रहा था। एक 21 वर्ष की पुत्री भी है। चार माह पूर्व पुत्री की शादी हुई थी। पति ने सात अप्रैल को दूसरी शादी रचा ली। विरोध करने पर पति ने मानसिक एवं शारीरिक रूप से प्रताडि़त किया। अब अगर पति दूसरी पत्नी के साथ रहना चाहता है तो वह रहे परंतु हमें जीवनयापन के लिए 12 हजार रुपए भत्ता के रूप में दे और संपत्ति में मुझे और मेरी बेटी का हिस्सा दे। पति शंकर प्रसाद ने बताया कि हम दोनों पत्नियों को रखने को तैयार हैं किसी प्रकार की कोई भी परेशानी नहीं होने देंगे।