बिहार दिवस पर छाया कोरोना का साया, 22 मार्च को नहीं होगा कोई सार्वजनिक कार्यक्रम

बिहार में एक बार फिर से कोरोना ने दस्तक दे दी है और संक्रमण तेजी से फैलने के कारण इसका असर भी दिखने लगा है. 22 मार्च को हर साल बिहार दिवस के मौके पर पटना में बड़े कार्यक्रम होते रहे हैं, लेकिन इस साल इस पर भी कोरोना का साया पड़ गया है. इस साल 22 मार्च को बिहार दिवस के मौके पर पटना में सार्वजनिक तौर पर कोई कार्यक्रम नहीं होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस दिन सुबह 11 बजे सभी जिलों को वीडियो काफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करेंगे. इस बारे में शिक्षा विभाग के अपर सचिव संजय कुमार ने जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र लिखकर बताया है कि सभी जिलाधिकारी जिला में ऑनलाइन कार्यक्रम की तैयारी करें.

शिक्षा विभाग के निर्देश के मुताबिक बिहार दिवस के मौके पर हर जिला के समाहरणालय पर ही कार्यक्रम आयोजित होंगे. समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में अधिकारियों और गणमान्य लोगों को आमंत्रित किया जाएगा. इसी स्थान पर कार्यक्रम से जुड़े बैनर, पोस्टर, फ्लैक्स लगाए जाएंगे.

जल, जीवन हरियाली पर आधारित कार्यक्रम
इस साल बिहार दिवस के मौके पर बिहार सरकार की महत्वाकांक्षी योजना जल जीवन हरियाली पर आधारित होगी. जल जवान हरियाली के तहत बिहार में किये जा रहे कामों और चलाई जाने वाली योजनाओं की जानकारी दी जाएगी. लोगों को बताया जाएगा कि जल जीवन को बचाने के लिए कैसे अपने क्षेत्रों में काम करें.

हर साल होता है तीन दिवसीय कार्यक्रम
22 मार्च को बिहार दिवस के मौके पर हर साल तीन दिनों तक कार्यक्रम होता रहा है. इस मौके पर पटना के गांधी मैदान में मुख्य कार्यक्रम और ज्ञान भवन और एसकेएम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता रहा है. गांधी मैदान में होने वाले कार्यक्रम में सीएम के अलावा तमाम मंत्री और केंद्रीय मंत्री भी शामिल होते रहे हैं. देश भर के बड़े गायक, गजल गायक और नृत्यागनायें भी अपनी प्रस्तुति करते आये हैं. इस बार कोरोना के असर के कारण कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हो पायेगा.

Input- News 18