घोड़े के बर्थ-डे पर कटा 50 पाउंड का केक, जमकर हुई आतिशबाजी, मालिक ने कहा-बच्चे की तरह पाला हूं

आपने आज तक इंसानों को जन्मदिन मनाते देखा या सुना होगा, लेकिन बिहार के सहरसा में घोडे़ का जन्मदिन मनाया गया। इस मौके पर ना केवल केक काटा गया बल्कि एक बड़ी सी पार्टी दी गई, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने तरह-तरह के व्यंजनों का आनंद लिया। बिहार के सहरसा जिले के पंचवटी चौक निवासी रजनीश कुमार उर्फ गोलू यादव ने सोमवार की शाम अपने घोड़े चेतक का दूसरा जन्मदिन धूमधाम से मनाया।

गोलू अपने बच्चों की तरह चेतक से प्यार करते हैं। सोमवार की सुबह चेतक को नहलाकर जन्मदिन के लिए तैयार किया गया और शाम को उसके जन्मदिन के मौके पर एक समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें 50 पाउंड का केक काटा गया। घोड़े के मालिक गोलू यादव ने बताया कि चेतक हमारे घर का सदस्य है न कि कोई जानवर। हम परिवार के लोग हर साल मिलकर उसका जन्मदिन धूमधाम से मनाते हैं।

खुशी में की गई आतिशबाजी

उन्होंने बताया कि एक साल पहले चेतक का पहल जन्मदिन भी धूमघाम से मनाया गया था। पहले चेतक के सामने केक रखा गया है। केक पर घोड़े की तस्वीर तो थी ही उसका नाम भी था। इसके बाद घोड़े के मालिक गोलू ने केट काटा। केक काटने के बाद आतिशबाजी की भी व्यवस्था की गई थी। इस दौरान लोगों ने जमकर पटाखे जलाए। इस समारोह में बड़ी संख्या में आसपास के लोग इकट्ठे हुए।

आज तक अपना जन्मदिन नहीं मनाया

गोलू कहते हैं कि मैंने आज तक अपना जन्मदिन नहीं मनाया है, लेकिन चेतक का जन्मदिन हर साल मनाता हूं। उन्होंने कहा कि वे इस चेतक को छह महीने के छोटे उम्र में अपने घर ले आए थे और उसके बाद इसे दूध पिला कर पाला है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं चेतक को अपने बच्चे की तरह पाला हूं। अपने बच्चों से ज्यादा प्यार दिया है।’’ गोलू कहते हैं कि इस पार्टी में शाकाहारी और मांसाहारी दोेनों तरह की व्यवस्था की गई। जानवरों के प्रति हो रही हिंसा पर दुख प्रकट करते हुए गोलू कहते हैं कि आज आम लोगों से वफादार जानवर हैं।

मालिक ने दिया पशु प्रेम का संदेश

लोगों को जानवरों के प्रति प्रेम को लेकर जागरूक करते गोलू यादव ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जानवर को कभी भी जानवर नहीं समझें बल्कि उसे अपने परिवार का सदस्य समझें। उन्होंने लोगों से पशु से प्रेम करने का संदेश दिया। इधर, गोलू के पशु प्रेम की इस इलाके में सर्वत्र चर्चा हो रही है। लोग कहते हैं कि गोलू आज सहरसा के लिए ही नहीं बिहार के लिए एक आदर्श हैं।