बिहार में रोजगार को लेकर तेजस्वी का तंज- केंद्र के बाद अब नीतीश सरकार ने भी चढ़ाई नौकरी वाली काठ की हांडी

बिहार विधानसभा में जारी बजट सेशन के बीच पूर्व उपमुख्यमंत्री सह नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार में नौकरी और रोजगार के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार के साथ-साथ नीतीश सरकार को भी घेरा है। तेजस्वी ने तंज कसते हुए लिखा है कि – काठ की हांडी बार बार नहीं चढ़ती। नौकरी के नाम पर एक काठ की हांडी केंद्र सरकार ने चढ़ाई थी, 2 करोड़ नौकरी प्रति वर्ष वाली, तब से नौकरी के नाम पर वे पकौड़ा तलना ही सुझा पाए। अब दूसरी 20 लाख नौकरी वाली हांडी बिहार सरकार ने चढ़ाई है जिसके बाद से नौकरी शब्द इनके शब्दकोश से गायब है।

इसके एक दिन पहले भी तेजस्वी ने रोजगार के मुद्दे पर बिहार सरकार को घेरते हुए ट्वीट किया था कि – नीतीश सरकार के पास युवाओं को 20 लाख रोजगार देने का ना कोई रोडमैप है, ना ही विज़न। बजट में IT, फूड प्रोसेसिंग का उल्लेख तक नहीं! हवा हवाई पेपरबाजी और जुमलेबाजी पर चल रही बिहार सरकार बस सब्ज़बाग दिखाना जानती है पर उसे अमलीजामा पहनाने की ना उनके पास योग्यता है और ना ही इच्छाशक्ति!

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव 2021 के दौरान बिहार में सरकारी नौकरी और रोजगार एक बड़ा मुद्दा बना था। सभी दलों ने सत्ता में आने के बाद बिहार में नौकरी को लेकर बड़े-बड़े दावे किये थे। महागठबंधन नेता तेजस्वी ने जहां 10 लाख लोगों को नौकरी का वादा किया था वहीं एनडीए की ओर से 19 लाख नौकरी का वादा किया गया था। अब जबकि नीतीश कुमार की अगुवाई में एनडीए की सरकार बन चुकी है तो सरकार ने बिहार बजट 2021-22 पेश करते हुए 20 लाख बेरोजगारों को इसी साल रोजगार देने की बात कही है। इसी बात पर तेजस्वी ने तंज कसते हुए ये बातें कहीं।