समस्तीपुर-परिवार का छिना सहारा, घर का बुझा चिराग

समस्तीपुर । शहर के पेठियागाछी बाइपास रोड के निकट बूढ़ी गंडक नदी के किनारे निर्माणाधीन कॉम्पलेक्स के बोरबेल में दबकर मजदूर की मौत के बाद स्थानीय लोगों का आक्रोश भड़क गया। आगजनी करते हुए आक्रोशितों ने सड़क जाम कर यातायात बाधित कर दिया। इधर घटना के बाद मजदूर मनोज राम के घर कोहराम मच गया। स्वजनों की चीख पुकार से माहौल गमगीन है। बूढ़े बाप के कंधे से पुत्र का सहारा छिन गया। पत्नी और बच्चे भी शव से लिपटकर आंसू बहा रहा हैं। मृतक को चार पुत्रियां और एक पुत्र हैं। स्वजनों ने बताया कि मनोज के कंधे पर ही पूरे परिवार की जिम्मेदारी थी। उसकी मौत के बाद परिवार का भरण-पोषण मुश्किल हो गया है। आसपास के लोगों ने स्वजनों को सांत्वना दी। अंचलाधिकारी ने बताया कि नियमानुकूल विधि सम्मत कार्रवाई करते हुए मृतक के स्वजनों को सहायता प्रदान की जाएगी।

बताया जाता है कि मथुरापुर ओपी क्षेत्र की सारी पंचायत के अकबरपुर पितौझिया निवासी जनक राम का पुत्र 35 वर्षीय मनोज राम निर्माणाधीन कॉम्पलेक्स में कार्य कर रहा था। शनिवार को मजदूर निर्माणाधीन भवन में बोरबेल का गड्ढा तैयार कर रहे थे। इसी क्रम में अंदर घंसना गिरने से मनोज राम मिट्टी के अंदर दब गया। उसके बचाव की कोशिश में लगे उपेंद्र सहनी इसमें गंभीर रूप से घायल हो गए। नगर थाना की पुलिस टीम ने स्थानीय लोगों की मदद ली। घायल को गड्ढे से बाहर निकाला। करीब चार घंटे तक कड़ी मशक्कत के बाद लोडर मशीन से खोदाई कर मृतक के शव को गडढे से बाहर निकाला गया। इससे आक्रोशित लोगों ने कंस्ट्रक्शन की चहारदीवारी के अंदर एक झोपड़ी में आग लगा दी। सड़क पर बांस बल्ला रखकर बाइपास जाम कर दिया। निर्माणाधीन भवन वारिसनगर थाना क्षेत्र के सारी निवासी जीवछ महतो का बताया जा रहा है। घटना के बाद कंस्ट्रक्शन के मालिक व कर्मी फरार हो गए। इससे लोगों का गुस्सा और भड़क उठा।

वारिसनगर थानाक्षेत्र के सारी निवासी जीवछ महतो का पेठियागाछी बाइपास रोड के निकट बूढ़ी गंडक नदी के किनारे भवन निर्माण (कंस्ट्रक्शन) का काम चल रहा है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार घटना के बाद कंस्ट्रक्शन के मालिक व सभी मजदूर वहां से भाग निकले। किसी व्यक्ति ने बाहर जाकर स्थानीय लोगों को इसकी सूचना दी। इसके बाद आसपास के लोग एकत्रित हो गए। स्थानीय पुलिस को घटना की जानकारी दी। कंस्ट्रक्शन का काम कर रहे कुछ मजदूरों ने अंदर जाकर गडढे से शव निकालने का प्रयास किया। सूचना पर दलबल के साथ पहुंचे नगर थानाध्यक्ष अरुण राय ने बचाव कार्य में पुलिस टीम के साथ स्थानीय लोगों की मदद ली। घायल को गडढे से बाहर निकाला। वहीं गडढा खोदकर मनोज राम के शव को निकाला गया। इसी बीच कुछ आक्रोशित लोगों ने चहारदीवारी के अंदर कंस्ट्रक्शन की एक झोपड़ी में आग लगा दी और बाहर सड़क पर बांस-बल्ला रखकर जाम कर दिया।

हालांकि, तत्काल पुलिस टीम के द्वारा लोगों को समझा बुझाकर सड़क जाम समाप्त करा दिया गया। आगजनी में झोपड़ी जलकर राख हो गई। इसके बाद घटनास्थल पर काफी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए। पुलिस प्रशासन द्वारा लोडर मशीन लाकर राहत बचाव का कार्य शुरु किया गया। करीब चार घंटे कड़ी मशक्कत के बाद गडढा खोदकर शव को बाहर निकाला। इसके बाद शव को अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। मौके पर अंचलाधिकारी धर्मेद्र पंडित समेत काफी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहे।

Input- Jagran