समस्तीपुर मंडल को बजट में मिली 1620 करोड़ से अधिक की राशि

समस्तीपुर रेल मंडल में अलग-अलग महत्वपूर्ण परियोजनाओं के लिए इस बार 1620 करोड़ रुपये से अधिक की राशि मिली है। रेल मंडल अंतर्गत मिथिलांचल, सीमांचल और कोसी की दर्जन से अधिक महत्वपूर्ण रेल परियोजनाओं को इस बार की बजट में मात्र एक-एक हजार राशि दी गई है। ऐसा लग रहा कि मामूली राशि देकर परियोजनाओं को मात्र जीवंत रखने की कोशिश की गई है। वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में मामूली राशि के प्रावधान से संबंधित रेल परियोजनाएं की गति पकड़ पाएंगी, इस पर सवाल उठना लाजिमी है। दरभंगा-कुशेश्वरस्थान, खगड़िया-कुशेश्वरस्थान, अररिया- सुपौल जैसी नई रेललाइन निर्माण का काम अटक जाएगा। कुरसेला-बिहारीगंज नई रेललाइन जैसी कई परियोजनाएं राशि के अभाव में शुरू ही नहीं हो पाएंगी। बजट में मिली राशि पर नजर डाले तो कोसी को सीमांचल क्षेत्र से जोड़ने वाली महत्वपूर्ण परियोजना अररिया-सुपौल नई रेल लाइन (92 किमी) के लिए मात्र एक हजार मिले हैं। 304 करोड़ 41 लाख राशि वाली इस प्रोजेक्ट के लिए इससे पहले दो बार में 37 करोड़ 16 लाख तीन हजार राशि मिली थी। इस प्रोजेक्ट का काम चलने से इस बार की बजट में पर्याप्त राशि मिलने की लोग आस लगा रखे थे। अब 192 करोड़ 46 लाख लागत वाली कुरसेला-बिहारीगंज(35 किमी) रेललाइन निर्माण को मिली राशि पर नजर डाले तो इसे भी मात्र एक हजार रुपए मिले हैं। ऐसे में इसके अटके रहने की पूर्ण संभावना है। दरभंगा-कुशेश्वर स्थान (70.14 किमी) और खगड़िया-कुशेश्वरस्थान (44 किमी) नई लाइन के लिए भी मात्र एक-एक हजार राशि का प्रावधान किया गया है। महेशखूंट-थाना बिहपुर (31.75 किमी) और थाना बिहपुर-कुरसेला(33.57 किमी) अमान परिवर्तन कार्य के लिए भी मात्र एक-एक हजार राशि मिली है। मुजफ्फरपुर-दरभंगा(66 किमी) और विक्रमशिला-कटरेछ पीरपैंती नवगछिया (18 किमी) रेललाइन के लिए भी एक-एक हजार राशि ही मिली है। मोतिहारी-सीतामढ़ी (76 किमी), सीतामढ़ी-जयनगर-निर्मली (188 किमी), मुजफ्फरपुर-कटरा-जनकपुर रोड(66 किमी) और छपरा-मुजफ्फरपुर रेललाइन के लिए भी मात्र एक-एक हजार राशि का ही प्रावधान किया गया है। आरओबी के लिए मिली मात्र 10 हजार राशि

ट्रकों के अंडरलोड परिचालन पर सहमति


यह भी पढ़ें

सहरसा-मधेपुरा यार्ड के बीच समपार संख्या 90 के स्थान पर बनने वाले आरओबी निर्माण के लिए बजट में मात्र दस हजार राशि मिली है। वहीं सहरसा-बैजनाथपुर के बीच समपार संख्या 104 पर आरओबी निर्माण के लिए महज एक लाख राशि का प्रावधान किया गया है। इतनी कम राशि के प्रावधान से निर्माण अटका रह जाएगा।

समस्तीपुर-दरभंगा दोहरीकरण लाइन के लिए मिला 45 करोड़

38 किलोमीटर दूरी में समस्तीपुर-दरभंगा दोहरीकरण लाइन के लिए 45 करोड़ और दरभंगा-शीशो हॉल्ट व काकरघाटी को जोड़ते हुए दरभंगा में बायपास लाइन के लिए 100 करोड़ राशि का इस बार के बजट में प्रावधान किया गया है। मधेपुरा रेल इंजन विद्युत कारखाना के लिए दो करोड़ और मधेपुरा, दरभंगा सहित चार जगहों पर पानी टंकी निर्माण के लिए दो करोड़ राशि मिली है। मुंगेर गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल निर्माण ले 95 करोड़ और सकरी-हसनपुर(79 किमी) नई रेललाइन के लिए पांच करोड़ राशि मिली है। जयनगर-दरभंगा-नरकटियागंज (268 किमी) रेललाइन लिए 25 करोड़ राशि मिली है। जयनगर-नेपाल लाइन के लिए 800 करोड़

जयनगर-विजलपुरा और विजलपुरा-बारदीवास नेपाल के बीच विस्तार सहित 69.08 किलोमीटर ब्रॉडगेज निर्माण के लिए आम बजट में इस साल 880 करोड़ का प्रावधान किया गया है। इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के पूरा होने से रेल मंडल का मिथिलांचल क्षेत्र पड़ोसी देश नेपाल से जुड़ जाएगा। व्यावसायिक दृष्टिकोण से यह महत्वपूर्ण रेलमार्ग हो जाएगा।