पटना एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी, 12 सौ करोड़ की लागत से हो रहा विस्तारीकरण

बजटीय प्रावधानों में एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने की घोषणा के बीच पटना एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने के कयास शुरू हो गए हैं. वहीं एयरपोर्ट कर्मियों की ओर से इसका विरोध भी शुरू हो गया है.

एयरपोर्ट अथॉरिटी इम्प्लाइज यूनियन की पटना शाखा के सचिव का कहना है कि एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने का निर्णय सही नहीं है. पहले ही छह एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपा जा चुका है और अब दिल्ली, जयपुर, लखनऊ, रायपुर, भुवनेश्वर, त्रिची और गुवाहाटी के बीच पटना एयरपोर्ट को भी निजी हाथों में सौंपने की तैयारी है.

अभी फिलहाल पटना एयरपोर्ट के विस्तारीकरण में 12 सौ करोड़ से अधिक की राशि खर्च की जा रही है. वर्ल्ड क्लास सुविधाएं विकसित करने के बाद एय़रपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने से यात्रियों पर भी इसका असर पड़ेगा. एयरपोर्ट के निजी हाथों में जाने पर यात्रियों के साथ-साथ कर्मचारियों के हितों का बड़ा नुकसान होगा.