मिली नई जिंदगी : 23 साल बाद पंजाब से मुक्त हुआ राम शोभित,बाल मजदूर गिरोह का शिकार बना था

बाल मजदूरी कराने वाले गिरोह का शिकार बना था
समस्तीपुर/ मुफस्सिल थाने के मोरदीवा गांव के स्व. रामचंद्र राम के पुत्र राम शोभित राम 23 सालों की बंधुआ मजदूरी कर मुक्त होकर घर पहुंचा है। जिससे उसके परिवार के लोग फुले नहीं समा रहे। परिवार के लोगों का कहना है कि राम शोभित जब मात्र नौ सालों का था तो बाल मजदूरी कराने वाले गिरोह के सदस्य उसे बहला-फुसलाकर पंजाब ले जाकर बेच दिया।

उसे गिरोह के लोगों ने अग्रवाल ट्रेडिंग कंपनी, होशियारपुर पंजाब के हाथों सौंप दिया। वहां उससे मजदूरी तो कराया जाता था लेकिन पैसा नहीं दिया जाता था। उसके साथ मारपीट भी की जाती थी।

गत दिसंबर महीने में मोरदीवा के मुखिया रामाधार सिंह, समाजसेवी रामाश्रय महतो, ज्योतिष महतो, मनोज पटेल आदि ग्रामीणों ने श्रम अधीक्षक व पटना के वरीय पदाधिकारियों से बात करके इस ओर आवश्यक पहल करने की मांग की। जिसमें स्थानीय विधायक अखतरूल इस्लाम शाहीन ने भी सहयोग किया।

Input- Dainik Bhaskar