संतोष का शव पहुंचते ही करुण क्रंदन से लोगों की नम हुई आंखें

समस्तीपुर । कटिहार में हुई सड़क दुर्घटना में मृत संतोष साह का शव घर पहुंचते ही घर पर कोहराम मच गया। परिवार के लोगों के करुण क्रंदन से माहौल गमगीन हो गया। संतोष साह जहांगीरपुर के रहने वाले थे। मृतक की पत्नी उषा देवी एवं मां राजकुमारी देवी का रो-रोकर बुरा हाल था। संतोष का लड़का एवं लड़की भी उससे लिपटकर रो रहे थे। इस दुर्घटना के बाद परिवार पर विपत्ति का पहाड़ टूट पड़ा है। बाद में ग्रामीणों के सहयोग से मृतक के पार्थिव शरीर को करेह नदी के तट पर अंतिम संस्कार किया गया। मुखाग्नि बड़े पुत्र राहुल साह ने दिया। संतोष की मौत पर पूर्व विधायक राजकुमार राय, मनोज सिंह, अरविद सिंह, राजेश यादव समेत दर्जनों लोगों ने शोक जताया है। संकट की इस घड़ी में परिवार को संबल प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। बताते चलें कि कटिहार में हुए सड़क हादसे में छह लोगों की मौत हो गई थी, जिसमें संतोष साह भी शामिल था। तारा व मुस्तरी गांव आई तो उजाला व काजल का सिमरिया में हुआ संस्कार

बिथान : सड़क हादसे में उजान गांव की चार की मौत के बाद बेगूसराय पुलिस ने बुधवार को स्वजनों को सिपुर्द कर दिया। तारा देवी एवं मुस्तरी खातून का शव गांव लाया गया। वहीं उजाला कुमारी एवं लक्ष्मी कुमारी का दाह संस्कार बेगूसराय जिले के सिमरिया घाट पर कर दिया गया। देर रात साढ़े 10 बजे बाद स्वजन जब रोसड़ा स्थित अस्पताल पहुंचे तो यहां अपनों के शव एवं अन्य की गंभीर हालत देखकर उनके हौसले ने जवाब दे दिया और आंखों से आंसू बहने लगे। करीब दर्जन भर स्वजनों को देख उन्हें हौसला बंधाने वालों की आंखें भी नम हो गई। मौके पर वहां उपस्थित थानाध्यक्ष एवं गांव से पहुंचे लोगों ने भी स्वजनों को ढांढस बंधाया। बुधवार की सुबह पुलिस ने पंचनामा तैयार किया और स्वजनों के साथ पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।