बिहार के गांवों की गलियां व चौराहे रात में भी होंगे रोशन, हर 30 मीटर पर लगेगी सोलर स्ट्रीट लाइट

बिहार के गांवों की गलियां और चौराहे अब रात में भी रोशन रहेंगी। मुख्यमंत्री के सात निश्चय पार्ट- 2 के तहत इस कार्य की तैयारी युद्धस्तर पर चल रही है। इस योजना में यह तय किया गया है कि गांवों में हर 30 मीटर की दूरी पर एक सोलर स्ट्रीट लाइट लगेगी। बिजली के पोल पर ये लाइट लगाई जाएंगी। ग्रामीण क्षेत्रों के हर वार्ड में औसतन दस स्ट्रीट लाइट लगेंगी। इस तरह राज्य में कुल दस लाख लाइट लगाई जाएंगी। इसकी तैयारी जोर-शोर से पंचायती राज विभाग कर रहा है। विभाग इस योजना की प्रतिदिन समीक्षा कर जिलों को आवश्यक निर्देश भी दे रहा है। विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने कहा है कि पंचायत चुनाव के तुरंत बाद स्ट्रीट लाइट लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा.

सर्वेक्षण का काम शुरू

गौरतलब हो कि अप्रैल-मई में पंचायत चुनाव होना है। इस तरह जून में यह कार्य शुरू हो जाएगा। इस योजना के लिए सर्वेक्षण का कार्य शुरू कर दिया गया है। गावों में जहां पर आबादी बसी है, वहीं के बिजली के पोल में सोलर लाइट लगाई जाएंगी। जहां पर लोग नहीं हैं, उन जगहों पर लाइट नहीं लगेगी। ग्राम पंचायतों की देखरेख में यह कार्य होगा। अब तक करीब 29 हजार वार्डों में सर्वेक्षण का कार्य पूरा कर लिया गया है। इसके अंतर्गत साढ़े तीन लाख बिजली पोल को चिह्नित किया गया है।

भुगतान ग्राम पंचायतें करेंगी

शीघ्र ही राज्य के सभी एक लाख 14 हजार 691 वार्डों में सर्वेक्षण का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। बिहार रिन्युअल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी (ब्रेडा) के द्वारा लाइट लगाई जाएंगी, जिसका भुगतान ग्राम पंचायतें करेंगी। 15 वें वित्त आयोग की राशि का उपयोग इस कार्य में किया जाएगा। लाइट लगाने वाली एजेंसी ही पांच सालों तक इसका रखरखाव भी करेगी।

पारंपरिक बिजली पर भी चला मंथन

पूर्व में विभाग में काफी दिनों तक मंथन चला था कि स्ट्रीट लाइट पारंपरिक बिजली के माध्यम जलाई जाए या सोलर लाइट लगाई जाए। विचार-विमर्श के बाद आखिरकार सोलर लाइट लगाने का निर्णय हुआ है।

Source : Hindustan