जाना था दरभंगा लेकिन बनारस पहुंच गई फ्लाइट, एयरपोर्ट पर यात्रियों ने किया खूब हंगामा

खराब मौसम के कारण मुंबई से दरभंगा आने वाली स्पाइसजेट की फ्लाइट एसजी 945 रविवार को एक बार फिर लाल बहादुर शास्त्री अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, वाराणसी डायवर्ट हो गई। इससे पहले भी गत बुधवार को मुंबई से दरभंगा आने वाली फ्लाइट को कोलकाता डायवर्ट कर दिया गया था।

एयरपोर्ट डायरेक्टर विप्लव मंडल ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि लो विजिबिलिटी के कारण फ्लाइट को बनारस डायवर्ट कर दिया गया। मालूम हो कि स्पाइसजेट की फ्लाइट संख्या एसजी 945 को दोपहर ढाई बजे दरभंगा आना था और इसे यात्रियों को लेकर पुन: तीन बजकर पांच मिनट पर मुंबई के लिए उड़ान भरना था। इधर, सूत्रों के अनुसार बनारस के लाल बहादुर शास्त्री अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पर नाराज यात्रियों ने जमकर हंगामा किया। वे स्पाइसजेट के कर्मियों से दरभंगा जाने की व्यवस्था करने की मांग कर रहे थे। अंतत: स्पाइसजेट ने कुछ यात्रियों को वापस मुंबई ले जाने की व्यवस्था की और कुछ को टिकट रिफंड करने का आश्वासन दिया। इसके बाद यात्रियों का आक्रोश कम हुआ। वहीं, कई यात्री वहां से किराये की कार लेकर दरभंगा पहुंचे।

इसी फ्लाइट से मुंबई से आ रहे दरभंगा के प्रख्यात हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ गौरीशंकर झा ने कहा कि जैसे ही फ्लाइट को बनारस डायवर्ट किये जाने की घोषणा हुई, यात्रियों की बेचैनी बढ़ गई। बनारस उतरने के बाद वहां यात्रियों ने हंगामा भी किया। बाद में स्पाइसजेट के अधिकारियों ने उन्हें समझा-बुझाकर शांत किया। डॉ झा ने कहा कि कोई रास्ता नहीं देख मैं वहां से एक कार किराये पर लेकर दरभंगा पहुंचा। उन्होंने कहा कि स्पाइसजेट ने उन्हें टिकट रिफंड करने का आश्वासन दिया है।

इधर, मुंबई जाने के लिए दरभंगा एयरपोर्ट पर पहुंचे मधुबनी जिले के सतघारा गांव के राजीव झा यात्रा पूरी नहीं कर पाने से मायूस दिखे। उन्होंने कहा कि दरभंगा से हवाई सेवा की शुरुआत कर केंद्र सरकार ने मिथिला को बहुत बड़ी सौगात दी है। लेकिन यहां इंफ्रास्ट्रक्टर को डेवलप किए जाने की जरूरत है। जब तक यहां सुविधाओं का विस्तार नहीं किया जाएगा, इस तरह की समस्या सामने आती रहेगी। वहीं, अपने भाई को लेने पहुंचे केवटी के मनोज झा ने कहा कि उड़ान योजना के तहत दरभंगा एयरपोर्ट पर सबसे अधिक यात्री मिल रहे हैं। इसके बावजूद यहां सुविधाएं उपलब्ध कराने में हो रही देरी समझ से परे है। उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय को इस दिशा में गंभीरता से विचार करना चाहिए। मालूम हो कि खराब मौसम के कारण दरभंगा एयरपोर्ट से इससे पहले भी फ्लाइटों को कोलकाता और पटना डायवर्ट किया जा चुका है।

News- Hindustan